National Update : चमोली हादसा ग्लेशियर स्खलन के कारण हुआ: जावडेकर

नयी दिल्ली, 15 मार्च: केन्द्रीय वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने सोमवार को राज्य सभा में कहा कि हाल ही में चमोली में हुई दुर्घटना के कारणों का पता लगाने के लिए कई अध्ययन किये जा रहे हैं लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि यह हादसा ग्लेशियर स्खलन के कारण काफी मलबा और पानी आ जाने से हुई थी।

श्री जावडेकर ने प्रश्न काल के दौरान समाजवादी पार्टी के रेवती रमण सिंह के पूरक प्रश्न के उत्तर में कहा कि चमोली दुर्घटना ग्लेशियर स्खलन के कारण मलबा और पानी आ जाने के कारण हुई है लेकिन इसके और कारणों का पता लगाने के लिए कई कोणों से जानकारियां एकत्र की जा रही हैं और व्यापक अध्ययन किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि अपर गंगा क्षेत्र में पहले से मंजूर जल विद्युत परियोजनाओं के अलावा अब ऐसी किसी अन्य परियोजना को इस क्षेत्र में स्वीकृति नहीं दी जा रही है।
उन्होंने कहा कि हिमालय पर्वत श्रंखला में जहां पर्वत तोड़ने के लिए डायनामाइट का उपयोग किया जाता है वहां पर्यावरण संरक्षण के लिए बड़ी संख्या में पेड़ लगाये जाते हैं।

श्री जावडेकर ने कहा कि जलवायु परिवर्तन होने के कई कारण हैं और इस दिशा में सरकार समुचित कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए सरकार के साथ ही निजी क्षेत्र भी पूरा सहयोग कर रहे हैं।

कुछ दिनों पूर्व कई बड़ी निजी कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ उनकी बातचीत हुई जिसमें उन्हें बताया गया कि कार्पोरेट सेक्टर कार्बन उत्सर्जन कम करने के साथ-साथ नवीकरणीय ऊर्जा के इस्तेमाल को बढ़ावा दे रहे हैं। कार्पोरेट घराने बिजली और पानी की बचत पर भी काफी ध्यान दे रहे हैं।

उन्होंने कांग्रेस के जयराम रमेश के प्रश्न के उत्तर में कहा कि 2030 तक नवीकरणीय ऊर्जा के 30 प्रतिशत तक के लक्ष्य से काफी अधिक ऊर्जा का उपयाेग होने लगेगा। उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन के संबंध में पेरिस समझौते के तहत देश में अच्छे कदम उठाये जा रहे हैं और इस मामले में राष्ट्र अग्रणी रहेगा।

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *