National : महिलाएं किसानी के क्षेत्र में और आगे बढ़ें, यह सरकार की प्राथमिकता : तोमर

नयी दिल्ली, 15 अक्टूबर: कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि देश के हर क्षेत्र में महिलाओं की भूमिका तेजी से बढ़ रही है और महिलाएं उल्लेखनीय प्रगति कर रही हैं ।

श्री तोमर ने यह बात आज राष्ट्रीय कृषि महिला संसाधन केंद्र (एनजीआरसीए), कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय व राष्ट्रीय कृषि विस्तार प्रबंध संस्थान (मैनेज) द्वारा आयोजित महिला किसान दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में कही। उन्होंने कहा कि कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय में भी इस बात का विशेष ध्यान रखा जाता है और योजनाओं में महिलाओं को प्राथमिकता दी जाती है। महिलाएं खेती-किसानी के क्षेत्र में और आगे बढ़ें, यह सरकार की प्राथमिकता है।

उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति में महिलाओं का सम्मान, योगदान व महत्व सर्वविदित रहा है। महिलाओं का आत्मबल, परिवार व समाज के संचालन में योगदान कभी कम नहीं हुआ। एक परिवार से आकर दूसरे परिवार में कुछ ही दिनों में खुद को समावेश कर लेना और उसकी प्रगति में ही अपनी प्रगति मानना यह महिलाएं ही कर सकती है।

उन्होंने कहा “ उद्यम के क्षेत्र में भी हमारी बहनें तेजी से आगे बढ़ रही हैं। कृषि परिवार भी काफी भरा-पूरा है, वहीं स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) का एक नया संसार देश में बन गया है। देशभर में 73 लाख एसएचजी हैं, जिनसे जुड़ी आठ करोड़ से अधिक महिलाएं जहां अपनी आजीविका बढ़ा रही हैं वहीं देश के विकास में भी योगदान कर रही हैं। एसएचजी को बैंकों से तीन लाख करोड़ रुपए से अधिक का ऋण उनके कार्यों के कारण मिला है।”

श्री तोमर ने कहा कि देश की प्रगति की यात्रा में महिलाओं का योगदान अत्यंत महत्वपूर्ण एवं आवश्यक है। एक बार बहनें किसी अभियान को सफलता तक पहुंचाने का संकल्प ले लें तो उसमें सफलता अवश्य मिलती है। भारत की अगुवाई में वर्ष 2023 अंतर्राष्ट्रीय मिलेट्स ईयर के रूप में मनाया जाएगा। कृषि व सम्बद्ध मंत्रालय तेजी से इसकी तैयारी में जुटे हैं। मोटा अनाज गरीबों का अनाज नहीं है, यह पोषक अनाज है। मोटे अनाज का उत्पादन-उत्पादकता और उपयोग बढ़े, हर परिवार की थाली में इसे सम्मानजनक स्थान प्राप्त हो, यही इस अभियान का लक्ष्य है। हमारी बहनें भी इस अभियान में जुट जाएं, इसे सफल बनाएं, जिससे इसका महत्व पूरी दुनिया में प्रतिपादित हो सके।

कार्यक्रम में कृषि सचिव मनोज अहूजा, अपर सचिव अभिलक्ष लिखी, आईएआरआई निदेशक डा. ए.के. सिंह, कुलपति डा. ए.के. सिंह सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

अरुण अशोक

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *