Nepal Religious Status : नेपाल को कम्युनिस्ट देश बनाने में दिल्ली का भी था दबाव: अभिषेक प्रताप शाह

Insight Online News

गेरखपुर: नेपाल के कपिलवस्तु के सांसद अभिषेक प्रताप शाह ने कहा कि नेपाल हिंदू राष्ट्र से कम्यूनिस्ट देश बनने में तब की दिल्ली सरकार का भी दबाव था। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के पास नेपाल आई उनकी पत्नी सोनिया गांधी को ईसाई हाने के नाते मंदिर में प्रवेश से रोका गया था। नेपाल की परंपरा के अनुसार पशुपतिनाथ मंदिर में हिंदू प्रवेश नहीं कर सकते। यही कारण था, जब नेपाल को कम्यूनिस्ट देश बनाने की साजिश शुरू हुई तो दिल्ली ने उनका सहयोग किया।

अभिषेक प्रताप शाह शनिवार को कुशीनगर में पूर्वांचल एवं विकास विषय पर एक दैनिक जागरण की तरफ से आयोजति विमर्श में साझा कर रहे थे बदलते परिवेश में भारत-नेपाल संबंध सत्र में शामिल शाह ने कहा कि यह भारत -नेपाल के धार्मिक संबंध तोड़ने की कोशिश थी, जो अब भी जारी है। मुझे यह कहने में हिचक नहीं है कि नेतपाल में चीन की सक्रियता बढ़ी है। अनुच्छेद 370 हटाते ही नेपाल के नक्शे का मामला उठा, जिसे चीन ने उठवाया था। भारत-नेपाल के मजबूत रिश्तों की वकालत करते हुये शाह ने कहा कि नेपाल अपनी युवा शक्ति को भारत की सेना की तरफ से लड़ने के लिए भेजता है।

कारगिल में नेपाल के युवा भी शहीद हुये हैं। हम विश्वास दिलाते हैं कि गोरखा रेजीमेंट थी, है और रहेगी। हां, इस संबंध को और मजबूत करने के लिए गृहकाय की जरूरत है। अगर एसबीआई नेपाल और एलआइसी नेपाल हो सकता है तो आईआईटी नेपाल और आमआइएम नेपाल भी होना चाहिए। नेपाल की मेधा भारत से साझा होगी तो ये रिश्ते और मजबूत होंगे। शाह ने बुद्ध की धरा से राम का अद्घोष भी किया। कहा, ओली कहते हैं कि नेपाल में भी अयोध्या है। अच्छा है, अब दो-दो राम मंदिर बनेंगे।

साभार : दैनिक जागरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *