Pakistan Update : इमरान ने फिर अलापा कश्मीर राग, अफगानिस्तान पर मुस्लिम देशों की बैठक में उठाया मुद्दा

नई दिल्ली। पाकिस्तान के पीएम इमरान खान हर मौके पर कश्मीर का राग अलापना कभी नहीं भूलते हैं। भले ही उनके देश के लोग महंगाई से जूझ रहे हों या आतंकी घटनाएं अपने चरम पर हों। हाल ही में अफगानिस्तान की मदद करने और मुस्लिम देशों को एकजुट करने के लिए इस्लामिक सहयोग संगठन की बैठक बुलाई गई। हालांकि इस बैठक से कई सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों ने दूरी बनाई। ओओईसी की बैठक में इमरान खान ने कहा कि फलस्तीन और कश्मीर के लोग अपने मानवाधिकारों व लोकतांत्रिक गतिविधियों के बारे में मुस्लिम दुनिया से प्रतिक्रिया देखना चाहते हैं।

इमरान खान ने कहा ​कि हमें हर फोरम पर उनकी आवाज को उठाना चाहिए और एक संयुक्त कार्रवाई करनी चाहिए। इमरान खान ने कहा कि ओआईसी दुनिया को इस्लाम की शिक्षाओं और अंतिम पैगंबर हजरत मोहम्मद के लिए हमारे प्यार और स्‍नेह को समझने में सहायता करने के लिए अपनी भूमिका निभानी चाहिए। यह बयान ऐसे समय पर आया है, जब इमरान खान अपने मुल्क में कई घरेलू समस्याओं से जूझ रहे हैं। एक ओर जहां बढ़ती मुद्रास्फीति से महंगाई आसमान को छू रही हैं. वहीं दूसरी ओर तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान और तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान जैसे संगठनों के साथ सत्तारूढ़ सरकार की असफल वार्ता ने देश में अफरा-तफरी का माहौल है।

इस्लामिक सहयोग संगठन के विदेश मंत्रियों की परिषद के 17 वें असाधारण सत्र का आयोजन इस्लामाबाद के नेशनल असेंबली हॉल में हो रहा है। इसमें 20 विदेश मंत्री और 10 उप विदेश मंत्रियों सहित 57 इस्लामी दूत भाग ले रहे हैं। बैठक का आयोजन पाकिस्तान और अध्यक्षता सऊदी अरब कर रहा है. इस सत्र में भाग लेने वाले प्रतिनिधि अफगानिस्तान में मानवीय स्थिति पर चर्चा करेंगे।

इससे पहले पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने रविवार को कहा कि क्षेत्रीय शांति और स्थिरता के लिए कश्मीर मामले का समाधान अहम है। जनरल बाजवा ने यह टिप्पणी सऊदी विदेश मंत्री फैसल बिन फरहान अल सऊद के साथ एक बैठक के दौरान की। अफगानिस्तान में मानवीय हालात पर आयोजित इस्लामिक सहयोग संगठन के विदेश मंत्रियों के 17वें सत्र से इतर बाजवा से मुलाकात की थी. जनरल बाजवा ने इस बात पर जोर दिया कि दक्षिण एशिया में स्थिरता के लिए कश्मीर विवाद का शांतिपूर्ण हल जरूरी है। भारत ने भी हर बार कहा है कि वह इस्लामाबाद के साथ आतंकवाद और हिंसा मुक्त वातावरण में बेहतर संबंधों की इच्छा रखता है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *