Parliament : लोकसभा की कार्यवाही हंगामे के कारण दिनभर के लिए स्थगित

Insight Online News

नयी दिल्ली, 04 अगस्त : लोकसभा में पेगासस जासूसी मामला, किसानों के मुद्दे और आसमान छूती महंगाई के मसले पर विपक्ष के सदस्यों ने लगातार 12वें दिन भी हंगामा जारी रखा जिसके कारण तीन बार के स्थगन के बाद सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी गयी।

भोजनावकाश के बाद साढ़े तीन बजे तीसरी बार जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्ष के सदस्य पहले की तरह हंगामा करते हुए सदन के बीचोबीच आ गये और नारेबाजी करने लगे। पीठासीन अधिकारी राजेंद्र अग्रवाल ने सदस्यों को शांत करने की कोशिश की लेकिन किसी ने उनकी बात नहीं सुनी।

हंगामे के बीच ही श्री अग्रवाल ने नारियल विकास बोर्ड (संशोधन) अधिनियम 2021 को सदन में पारित कराने के लिए रखवाया। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने हंगामे के बीच सदन में विधेयक पारित होने के लिए पेश किया और सदन ने इसे बिना चर्चा के ध्वनिमत से पारित कर दिया। विधेयक के पारित होने के तत्काल बाद पीठासीन अधिकारी ने सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी।

इससे पहले सदन की कार्यवाही लगातार तीन बार स्थगित हुई। प्रश्नकाल के दौरान दो बार के स्थगन के उपरांत दोपहर 12 बजे सदन की कार्यवाही तीसरी बार जैसे ही शुरू हुई, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) और शिरोमणि अकाली दल समेत विभिन्न विपक्षी दलों के सदस्य हंगामा करते हुए अध्यक्ष के आसन तक पहुंच गये। सदस्यों के हाथों में किसानों के मुद्दे, पेगासस जासूसी और महंगाई से जुड़े भिन्न-भिन्न प्रकार के नारे लिखी तख्तियां मौजूद थीं।

पीठसीन अधिकारी राजेन्द्र अग्रवाल ने हंगामा के बीच ही महत्वपूर्ण दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाये। श्री अग्रवाल ने सदस्यों को अपनी सीट पर जाने का भी आग्रह किया, लेकिन वे नहीं माने और जोर-जोर से नारेबाजी करने लगे। अंतत: सदन की कार्यवाही दो बजे तक के लिए स्थगित करनी पड़ी।

इससे पहले विपक्षी सदस्यों ने प्रश्नकाल को भी बाधित किया था और सदन की कार्यवाही उस दौरान दो बार स्थगित करनी पड़ी। पीठासीन अधिकारी राजेन्द्र अग्रवाल ने एक बार के स्थगन के बाद 1130 बजे जैसे ही प्रश्नकाल शुरू किया था तो विपक्ष के सदस्य बैनर तथा तख्तियां लेकर सदन के बीचोबीच आ गए और नारेबाजी करने लगे। श्री अग्रवाल ने उन्हें ऐसा नहीं करने की सलाह दी और सदन चलाने का प्रयास किया लेकिन सदस्यों का हंगामा लगातार जारी रहा। उसके बाद उन्हें कार्यवाही 12 बजे तक के लिए स्थगित करनी पड़ी थी।

अभिनव.श्रवण, वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *