Rajasthan Congress Update : राजस्थान में सियासी भूचाल के संकेत!, सचिन पायलट ने 14 विधायकों के साथ अशोक गहलोत और कांग्रेस आलाकमान को दिखाई ताकत

Insight Online News

जयपुर। राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने फिर अपनी ताकत दिखाई। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ चल रही खींचतान के बीच पायलट समर्थकों ने शुक्रवार को जयपुर जिले के कोटखावदा में किसान महापंचायत कर भाजपा पर कम सीएम और कांग्रेस नेतृत्व पर ज्यादा निशाना साधा। महापंचायत में 14 विधायकों व एक दर्जन से अधिक पंचायत व जिला परिषद पदाधिकारियों ने पायलट को प्रदेश का नेता बताते हुए कहा कि अब अपने हक के लिए संघर्ष करना होगा। पायलट समर्थक विधायकों ने अपने संबोधन में अपनी ही सरकार और केंद्र को आड़े हाथों लिया।

पायलट ने कृषि कानूनों को लेकर कहा कि देश का किसान रो रहा है, केंद्र में सुनने वाला कोई नहीं है। किसान को सहानुभूति नहीं सहयोग चाहिए। केंद्र सरकार की तानाशााही के खिलाफ मजबूती से सभी मिलकर लड़ेंगे। कृषि कानूनों के खिलाफ देश का किसान और नौजवान एक साथ खड़े हैं।

उन्होंने कहा कि देश में हालात खराब हैं, कांग्रेस किसानों के साथ है। उन्होंने कहा कि अन्न पैदा करने वाले किसान की कोई जाति नहीं होती है, वे सबके हैं। जाति के नाम पर किसानों को बांटने का काम किया जा रहा है। महापंचायत में पायलट सहित सभी नेता मुड्डों पर बैठे। इस मौके पर सभी समर्थक विधायकों ने पायलट को संघर्ष करने वाला नेता बताते हुए इशारों ही इशारों में सीएम गहलोत पर विभिन्न मुद्दों को लेकर निशाना साधा। महापंचायत में गहलोत गुट के विधायक प्रशांत बैरवा भी शामिल हुए। इस दौरान पायलट समर्थकों ने बैरवा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

पूर्व मंत्री और वरिष्ठ विधायक विश्वेंद्र सिंह ने गहलोत का नाम लिए बिना कहा कि पहले हमारी 99 सीटें आई और फिर 101 हो गई। विश्वेंद्र सिंह यह कह कर रुक गए कि मेहनत कोई करे, इस पर महापंचायत में शामिल हुए लोगों ने नारेबाजी की, तालियां बजाईं। दरअसल, विधानसभा चुनाव से पहले पायलट प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष थे, उन्होंने छह साल तक तत्कालीन भाजपा सरकार के खिलाफ आंदोलन किए थे।

लेकिन कांग्रेस के सत्ता में आने पर गहलोत सीएम बन गए। महापंचायत में विधायक दीपेंद्र सिंह शेखावत, हेमाराम चौधरी, रमेश मीणा, मुरारी मीणा, बृजेंद्र ओला, हरीश मीणा, जीआर खटाणा, वीरेंद्र सिंह, इंद्रराज गुर्जर, राकेश पारीक, सुरेश मोदी, अमर सिंह, प्रशांत बैरवा और मुकेश भाकर ने संबोधित किया। महापंचायत का आयोजन पायलट के विश्वस्त विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने किया।

पिछले दिनों कांग्रेस नेता राहुल गांधी की राजस्थान यात्रा के दौरान हुई चार सभाओं में से दो में सचिन पायलट को संबोधन का मौका नहीं देने और एक में मंच से उतारे जाने से उनके समर्थक विधायक और कार्यकर्ता नाराज है। पायलट खेमा कांग्रेस आलाकमान तक इस मुद्दे पर अपनी नाराजगी पहुंचा चुका है। पायलट अब गहलोत के गृह संभाग जोधपुर का दौरा करने की तैयारी कर रहे हैं।

-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *