Ram Sethu Up Coming movie of Akshay Kumar update : अद्भुत एवं धार्मिक श्रद्धा से भरपूर होगी नई पीढ़ी के लिए अक्षय कुमार की फिल्म रामसेतु

Insight Online News

जहां अयोध्या में हिंदू धार्मिक आस्था से जुड़े जनमानस के लिए भगवान श्रीराम की जन्मस्थली में विशाल राम मंदिर का निर्माण हो रहा है जिसका बेसब्री से आस्थावान पूरे विश्व में इंतजार कर रहे हैं ऐसे समय में प्रख्यात अभिनेता अक्षय कुमार जो रामसेतु पर एक फिल्म का निर्माण करने जा रहे हैं की सोच अत्यंत प्रशंसनीय एवं सराहनीय है।

प्रयोगधर्मी फिल्में करने-बनाने के लिए प्रख्यात अभिनेता-निर्माता अक्षय कुमार अब एक ऐसे विषय पर फिल्म बनाने जा रहे हैं जो भारतीय जनमानस के लिए बहुत भावुक और संवेदनशील है। भगवान राम और उनकी सेना के लिए नल-नील द्वारा समुद्र पर बांधे गये सेतु को काल्पनिक कहा गया है। इस मान्यता का खंडन तब हुआ जब नासा ने कुछ ऐसी तस्वीरें जारी की जिनमें समुद्र के तल पर पत्थरों से बना एक पुल दिखता है। इसी विषय पर फिल्म रामसेतु बनाने का बीड़ा उठाया है अक्षय कुमार ने। इस फिल्म का मुर्हूत अयोध्या में 18 मार्च को हुआ। उसी दिन वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिले।

  • रामसेतु बनाने का विचार कैसे आया?

निर्देशक अभिषेक शर्मा मेरे पास यह विषय लेकर आये थे। रामसेतु के बारे में मैंने सुना तो था लेकिन जब अभिषेक ने बताना शुरू किया तो दिलचस्पी बढ़ी। फिल्म और पड़ताल की तो मुझे लगा कि इस पर एक बड़ी फिल्म बन सकती है।

  • थोड़ा फिल्म के बारे में बताइए?

हमारी फिल्म 2007 से 2009 तक की कहानी कहती है। यह तब की बात है जब नासा की तस्वीरें जारी हुई थीं और रामसेतु पर बहस छिड़ी थी। मैं एक पुरातत्वविद् का रोल कर रहा हूं जो पुल की तलाश में निकलता है। नुसरत भरूचा इतिहास की शिक्षक हैं और जैक्लीन समुद्र विज्ञानी। फिल्म का 80 प्रतिशत हिस्सा पुराने दौर पर होगा। असली कहानी दिखाएंगे।

  • पुराने दौर पर असली कहानी, क्या आप पीरियड फिल्म बना रहे हैं?

अब यह न पूछिए। मेरी फिल्म माइथोलाॅजी पर नहीं जायेगी। हम स्क्रिप्ट पर बहुत काम कर रहे हैं। हमारी पूरी रिसर्च टीम काम कर रही है। डाॅ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी जिन्होंने चाणक्य सीरियल बनाया, मुहल्ला अस्सी बनाई, वह हमारे क्रिएटिव प्रोड्यूसर हैं। हर आदमी सोचता है कि रामसेतु मिथ है, अंधविश्वास है। मेरे बेटे ने मुझसे यही सवाल पूछा था कि वह कैसे संभव ? मैंने उसको तो जवाद दे दिया, लेकिन अब देश को बताना चाहता हूं कि रामसेमु क्या था? मैं नई पीढ़ी के लिए फिल्म बना रहा हूं। रामसेतु पूरी तरह वैज्ञानिक तथ्यों पर आधारित होगी। इससे नई जानकारियां मिलेगी। मैंने जब एयरलिफ्ट बनाई तो लोगों को पता चला कि खाड़ी युद्ध में एअर इंडिया ने पौने दो लाख लोगों को वहां से निकाला था। कितनी बड़ी बात है यह!

आप जिन तस्वीरों की बात कर रहे हैं, नासा का उनके बारे में कहना है कि उसने पुल की तस्वीरें दिखाई हैं, लेकिन यह नहीं कहा कि पुल मानव निर्मित है….
यह भी तो नहीं कहा कि आदमियों ने नहीं बनाया उसे। देखें, इस फिल्म पर जब से मैं काम कर रहा हूं तो अपने भीतर बहुत बदलाव महसूस किया है। बहुत सकारात्मक हुआ हूं। रामकथा सुनते हुए मेरा बचपन बीता। पिता रोज रामायण की कहानी सुनाते थे। कहानी वह मुझे सुलाने के लिए सुनाते, लेकिन सुनाते-सुनाते खुद सो जाते और जब बीच में आंख खुलती तो कहते, रावण से जाकर भीम मिला। हम बच्चे हंस देते।

  • अपने जाॅली एलएलबही, टाॅयलेट: एक प्रेम कथा जैसी सामान्य से हटकर फिल्में बनाई हैं…..

पैडमैन भी। सैनेटरी पैड पर तो हाॅलीवुड में भी फिल्म नहीं बनी। जब मैंने पैडमैन बनानी शुरू की तो लोगों ने कहा भी कि क्या बना रहे हो। राउडी राठौर का पार्ट टू या सिंह इज किंग बनाकर मैं पैडमैन से तीन गुना अधिक पैसा कमा सकता हूं। लेकिन मैं ऐसी फिल्में पैडमैन और टाॅयलेट एक प्रेम कथा तो गांव-गांव दिखाई जाती है। इन फिल्मों के बाद बहुत जागरूकता आई।

  • रामसेतु का मुहूर्त तो अयोध्या में हो गया, लेकिन शूटिंग कब से शुरू होगी?

बहुत जल्दी। दो हफ्ते में मुंबई में शूटिंग शुरू होगी और फिल्म दिल्ली, उंटी और चित्रकूट भी आएंगे। आयोध्या भी आ सकते हैं अगले साल दीवाली पर फिल्म आयेगी।

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से रामसेतु पर कोई बात हुई?

नहीं। योगी जी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में मैं शूटिंग करना चाहूं तो मुझे हर प्रकार का सहयोग मिलेगा यह मेरे लिए बड़ी बाता है।

  • अयोध्या में कैसा लगा?

बहुत अलग। मैं और मेरी टीम बहुत भाग्यशाली है जो इनती बड़ी भूमि पर कदम रखने का मौका मिला। जहां राम मंदिर का काम चल रहा है, वहां भी दूर से जाने का मौका मिला।

  • पुराने समय के ऐसे कौन से निर्देशक हैं जिनके साथ आप काम करना चाहेंगे?

बासु चटर्जी, रमेश सिप्पी, विजय आनंद हैं और भी कई लोग हैं।

  • फिटनेस के लिए क्या करते हैं?

जिम तो करता ही हूं लेकिन खाना सूरज डूबने से पहले खा लेता हूं। यह बहुत जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *