Ravichandran Ashwin : मेरे मन में कई बार संन्यास लेने का विचार आया था : अश्विन

जोहानसबर्ग, 21 दिसम्बर : भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने ख़ुलासा किया है कि वह एक समय क्रिकेट को छोड़ने का मन भी बना चुके थे।
अश्विन को जैसे ही न्यूज़ीलैंड सीरीज़ और दक्षिण अफ़्रीका दौरे के बीच थोड़ा समय मिला, तो क्रिकइंफ़ो से बातचीत के दौरान भारत के प्रमुख ऑफ़ स्पिनर ने कुछ हैरान करने वाली बात भी बताई, जिसमें उन्होंने कहा,”2018 और 2020 के बीच कई बार मेरे मन में ख़्याल आया है कि अब मुझे इस खेल को त्याग देना चाहिए। मुझे लगता था कि मैं अपनी तरफ़ से कोशिश तो भरपूर कर रहा हूं लेकिन इसका फल मुझे नहीं मिल रहा। विशेष रूप से एथलेटिक प्यूबल्जिया और पेटेलर टेंडोनाइटिस के साथ – मैं छह गेंदें फेंकता था और फिर मैं हांफने लगता था।

इसके बाद मेरा पूरा शरीर मानो दर्द से टूटने लगता था, जब घुटने का दर्द तेज़ होता, तो अगली गेंद पर मेरा जंप भी कम हो जाता था। जब मैं कम कूदता था, तो कंधों और पीठ के ज़रिए मुझे ज़्यादा ज़ोर लगाना होता था। और फिर ऐसा करने से मैं और भी तक़लीफ़ में ख़ुद को डाल देता था। यही वह समय था जब लगता था कि अब मुझे इस खेल से ब्रेक ले लेना चाहिए।”

अश्विन आगे कहते हैं, “आप मुझे कुछ भी कह सकते हैं, आप मुझे टीम से बाहर निकाल सकते हैं, सब ठीक है, लेकिन मेरे इरादे या मेरे प्रयास पर संदेह करना कुछ ऐसा है जिसने मुझे सबसे ज़्यादा चोट पहुंचाई है।”

ऑफ स्पिनर ने कहा,”2018 में इंग्लैंड श्रृंखला के ठीक बाद और फिर उसी साल ऑस्ट्रेलिया में सिडनी टेस्ट से पहले और एडिलेड टेस्ट के बाद मेरे ज़ेहन में संन्यास की बात आई। मैं जिस एकमात्र व्यक्ति से बात कर रहा था वह मेरी पत्नी थी। लेकिन मेरे पिता को मुझपर काफ़ी भरोसा था, वह यही कहते थे तुम सीमित ओवर क्रिकेट में फिर वापसी करोगे। उनकी इन बातों ने मुझे प्रेरित किया और मैंने अपना इरादा बदल दिया।”

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *