Reliance : रिलायंस रिटेल में ए‍क अरब डॉलर का निवेश करेगी जीआईसी और टीपीजी

  • जीआईसी करेगी 5512.5 करोड़ रुपये का निवेश
  • टीपीजी कैपिटल का निवेश 1838.7 करोड़ रुपये
  • रिलायंस रिटेल जुटा चुकी 32 हजार करोड़ रुपये

नई दिल्‍ली, 03 अक्‍टूबर । कोरोना काल में भी मुकेश अंबानी की रिलायंस इं‍डस्‍ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के रिटेल कारोबार में निवेश का सिलसिला जारी है। सिंगापुर सॉवरेन वेल्‍थ फंड जीआईसी और ग्‍लोबल इन्‍वेस्‍टमेंट फर्म टीपीजी कैपिटल रिलायंस रीटेल वेंचर्स लिमिटेड (आरआरवीएल) में एक अरब डॉलर यानी (करीब 7350 करोड़ रुपये) का निवेश करने की घोषणा की है।

आरआईएल के रिटेल कारोबार रिलायंस रिटेल में जीआईसी 5,512.5 करोड़ रुपये का निवेश करेगी, जिसके बदले में उसे आरआरवीएल में 1.22 फीसदी की हिस्सेदारी मिलेगी। दूसरी ओर टीपीजी 1838.7 करोड़ रुपये निवेश करेगी, जिसके बदले में कंपनी को आरआरवीएल में 0.41 फीसदी की हिस्सेदारी मिलेगी।

इन सौदों के आरआरवीएल की प्री-मनी इक्विटी वैल्यू 4.285 लाख करोड़ रुपये आंकी गई है। ग्‍लोबल इन्‍वेस्‍टमेंट फर्म टीपीजी का रिलायंस इंडस्‍ट्रीज में ये दूसरा निवेश है। इससे पहले उसने जियो प्लेटफॉर्म्स में 4,546.8 करोड़ रुपये का निवेश करने की घोषणा की थी।

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा कि रिलायंस रिटेल परिवार को जीआईसी और टीपीजी का स्वागत करते हुए बहुत खुशी हो रही है। उन्‍होंने कहा कि जीआईसी और टीपीजी इस मिशन में सहायक होगें। मुकेश अंबानी ने दुनियाभर में लंबी अवधि के सफल निवेश और चार दशकों के अपने ट्रैक रिकॉर्ड को बरकरार रखने वाली जीआईसी की तारीफ भी किया।

कुल निवेश 32 हजार करोड़ के पार
मुकेश अंबानी जियो प्‍लेटफॉर्म्‍स के बाद अब रिटेल कारोबार के लिए फंड जुटाने पर ध्‍यान दे रहे हैं। इसके लिए अब तक विदेशी निवेशकों से वह 32,197.50 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का निवेश जुटा चुके हैं। इससे पहले रिलायंस रिटेल में सिल्‍वर लेक पार्टनर्स, केकेआर, जनरल अटलांटिक, अबु धाबी स्टेट फंड मुबाडला और सिल्वर लेक पार्टनर्स अतिरिक्‍त निवेश की घोषणा कर चुके हैं। इसके बदले में उन्हें कंपनी में कुल 7.28 फीसदी हिस्सेदारी मिलेगी। रिलायंस रिटेल लिमिटेड आरआरवीएल की सहायक कंपनी है, जो देशभर में 12 हजार स्टोर्स का संचालन करती है।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *