विकसित अर्थव्यवस्थाओं की मुद्रा की तुलना में रुपये की स्थिति मजबूत: आरबीआई गवर्नर

नई दिल्ली/मुंबई, 22 जुलाई । रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि विकसित देशों की करेंसी की तुलना में भारतीय मुद्रा रुपया स्थिर बना हुआ है। आरबीआई गवर्नर ने कहा कि दुनिया के कई विकसित और विकासशील देशों की अर्थव्यवस्थाओं की अपेक्षाकृत रुपया मजबूत स्थिति में है। उन्होंने यह भी कि आरबीआई रुपये की कीमतों में आ रही गिरावट पर जीरो टॉलरेंस की नीति अपना रहा है।

शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को बैंक ऑफ बड़ौदा के अर्थशास्त्र सम्मेलन कार्यक्रम के दौरान यह बात कही। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि देश में महंगाई की दर लगभग स्थिर बनी हुई है। इसके साथ ही हमारे पास पर्यात मात्रा में विदेशी मुद्रा का भंडार है। दास ने कहा कि आरबीआई रुपये में तेज उतार-चढ़ाव और अस्थिरता को बिलकुल भी बर्दाश्त नहीं करेगा।

उन्होंने कहा कि आरबीआई के कदमों से रुपये के सुगम कारोबार में मदद मिली है। रिजर्व बैंक रुपये में तेज उतार-चढ़ाव और अस्थिरता को बिलकुल बर्दाश्त नहीं करेगा। दास ने कहा कि रिजर्व बैंक बाजार में अमेरिकी डॉलर की आपूर्ति कर रहा है। इस तरह बाजार में नकदी (तरलता) की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि मुद्रास्फीति की लक्ष्य के लिए 2016 में अपनाया गया मौजूदा ढांचा बहुत अच्छा काम किया है।

उल्लेखनीय है कि इस हफ्ते घरेलू मुद्रा रुपया फिलहाल 80 रुपये प्रति डॉलर के स्तर को पार कर लिया है। देश का विदेशी मुद्रा का भंडार 8 जुलाई को समाप्त हफ्ते में घटकर 580.252 अरब डॉलर के स्तर पर पहुंच गया है।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.