Satyendra Jain : निर्माण कार्य पहले की तरह ही जारी रहेंगे

Insight Online News

नयी दिल्ली, 07 जनवरी : दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि साप्ताहिक कर्फ्यू से मजदूरों एवं प्रवासी कामगारों को घबराने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि निर्माण कार्य पहले की तरह सामान्य रूप से चलता रहेगा।

श्री जैन ने शुक्रवार को परकारों से कहा कि दिल्ली में कल कोविड के कुल 15,097 नए मामले सामने आये है। पॉजिटिविटी दर 15.34 फीसदी रही है। कोरोना का ओमिक्रॉन वेरिएंट बहुत तेज़ी से फ़ैल रहा है। दिल्ली में एक्टिव केस की सख्या 31,498 हो गई है। ओमिक्रॉन वेरिएंट से घबराने की कोई जरूरत नहीं है। विशेषज्ञों ने भी स्पष्ट किया है की कोरोना का ओमिक्रॉन वेरिएंट माइल्ड और कम घातक है।

उन्होंने निर्माण मजदूरों को आश्वस्त करते हुए बताया कि दिल्ली में साप्ताहिक कर्फ्यू लगा है, लॉकडाउन नहीं। इसलिए मजदूरों एवं प्रवासी कामगारों को चिंता करने की जरूरत नहीं है दिल्ली में केवल साप्ताहिक प्रतिबंध लागू है। कोरोना की रोकथाम के लिए मास्क लगाना और सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करना ही बचाव के सबसे बेहतरीन उपाए है। गंभीर लक्षण होने पर ही अस्पतालों का रुख करें। होम आइसोलेशन में इलाज संभव है। होम आइसोलेशन की अवधि घटा कर सात दिन कर दी है। सात दिन के होम आइसोलेशन ख़त्म होने के अगर तीन दिन तक बुखार नहीं आता तो टेस्ट करने की कोई आवश्कता नहीं है, आप अपने काम पर वापस लौट सकते हैं।

स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि दिल्ली सरकार ने कोरोना की रोक-थाम के लिए कड़े नियम लागू किए हैं। जिम, स्कूल कॉलेज और अनावश्क स्थलों को बंद कर रखा गया है। दिल्ली में लॉकडाउन नहीं लगा है। निर्माण कार्य पहले की तरह सामान्य रूप से चलता रहेगा। मजदूरों एवं प्रवासी कामगारों को घबराने की कोई जरूरत नहीं है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली के अस्पतालों में कुल 1091 मरीज भर्ती हैं, जिसमें से 869 दिल्ली के मरीज है। कोरोना की पहली लहर से तुलना करें तो इस बार अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या छह गुना तक कम हुई है। दिल्ली में कोविड की यह पांचवी लहर है और इसका पीक कुछ ही हफ्तों या दिनों में आ सकता है। दिल्ली में कुछ स्वास्थ कर्मियों, डॉक्टर और अन्य मेडिकल स्टाफ के पॉजिटिव होने के मामले भी सामने आये हैं। हालांकि यह संख्या बहुत कम है। उन सभी का इलाज़ चल रहा है और उम्मीद है कि वे जल्द ही स्वस्थ हो कर वापस लौटेंगे। स्वास्थ विभाग की ओर से गंभीर से गंभीर परस्थिति से निपटने के लिए सभी संसाधनों, चिकित्सा केन्द्रों और अस्पतालों को तैयार रखा गया है। हम सभी लोगों से अनुरोध करते हैं कि गंभीर लक्षण होने पर ही अस्पताल जाएं। मामूली लक्षण नज़र आने पर न घबराएं। गंभीर लक्षण महसूस होने पर ही अस्पताल जाएं। होम आइसोलेशन में इलाज़ संभव है।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री ने लोगों से कोरोना से जुड़े नियमों का पालन करने का आग्रह किया। उन्होंने लोगों से सार्वजनिक जगहों पर सुरक्षा के लिए मास्क पहनने और सोशल डिस्टन्सिंग का पालन करने का निवेदन किया और कहा कि केवल सावधानी ही इसका बचाव है। अनावश्यक कार्यों के लिए घर से बाहर न निकलें।

आजाद.संजय, वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *