Scholarship scam in Jharkhand : छात्रवृति घोटाले का मुख्य आरोपित देवघर से गिरफ्तार

देवघर, 04 दिसम्बर । चतरा पुलिस ने कल्याण विभाग में हुए छात्रवृत्ति व साइकिल घोटाले में 09 करोड़ 33 लाख रुपये गबन के मामले में फरार चल रहे मुख्य आरोपित आशुतोष कुमार को देवघर के नगर थाना क्षेत्र अंतर्गत सलौनाटांड मोहल्ले से गिरफ्तार किया है।

आशुतोष कुमार तत्कालीन कल्याण पदाधिकारी के पद पर कार्यरत था और इस कांड का मुख्य आरोपित है। जांच के बाद संलिप्तता पाए जाने के कारण आशुतोष कुमार को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था। जानकारी के अनुसार, 9.33 करोड़ के घोटाले के आरोपितों में पूर्व जिला कल्याण पदाधिकारी आशुतोष कुमार, भोलानाथ लागुरी, नाजिर इंद्रदेव प्रसाद प्रधान सहायक काशी प्रसाद गुप्ता, एनजीओ सेनवर्ड के अधिकारी, प्रयास संस्था (मुरली श्याम, अभय कुमार, सुजंती द्विवेदी, एबीवी सहाय), अनन्या इंफोटेक (आशीष कुमार, अलोजा खुर्द इचाक हजारीबाग), विराट टेलीकॉम ( टुनटुन कुमार मेहता, बरवाइचाक हजारीबाग), चतरा इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ( मो. शहाबुद्दीन, वादी इरफान लाइन रोड, चतरा) सूरज अग्रवाल (जिंदल पॉवर लिमिटेड बालकुदरा पतरातू), रूपा देवी (पति आशीष कुमार, अलीजा खुर्द हजारीबाग), आशीष कुमार (पुत्र अर्जुन प्रसाद मेहता अलीजा खुर्द हजारीबाग), मिथलेश मिश्रा (पुत्र महेंद्र मिश्रा, चतरा), सुनीता देवी (पति इंद्रदेव प्रसाद नाजिर, तिलैया, हजारीबाग), चंदा प्रसाद ( पुत्र इंद्रदेव प्रसाद नाजिर), तारा प्रसाद (पुत्री इंददेव प्रसाद नाजिर) पृथ्वी प्रसाद (पुत्र इंद्रदेव प्रसाद नाजिर), सूरज प्रसाद (पुत्र इंद्रदेव प्रसाद नाजिर), लक्ष्मी देवी (पति सूरज प्रसाद) आदि का नाम शामिल है। इस घोटाले में चतरा के सदर थाना में कांड संख्या 165/18 दर्ज कराया गया था। वहीं चतरा पुलिस आरोपी को गिरफ्तार कर अपने साथ चतरा ले गयी।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *