Sexual Harassment Cases: यौन उत्पीड़न के आरोप में जोधपुर जेल में बंद आसाराम की तबीयत बिगड़ी

जोधपुर, 17 फरवरी । नाबालिग छात्रा के यौन उत्पीड़न मामले में जोधपुर जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहे आसाराम बापू की तबीयत मंगलवार रात बिगड़ गई। उन्हें सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ के बाद मंगलवार देर रात मथुरादास माथुर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यहां बुधवार सुबह उनके स्वास्थ्य की जांच की गई है। उनकी सेहत स्थिर बनी हुई है। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल पाएगा कि उन्हें क्या और कितनी तकलीफ है। तबीयत बिगडऩे की सूचना के बाद उनके समर्थक अस्पताल पहुंचने लगे हैं, जहां पुलिसकर्मी उन्हें रोक रहे हैं।

जोधपुर जेल में बंद आसाराम ने मंगलवार रात सीने में तेज दर्द की शिकायत की। उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। इस पर जेल से कड़ी सुरक्षा के बीच उन्हें रात 11 बजे महात्मा गांधी अस्पताल लाया गया। अस्पताल में उनकी जांचे की गई। जांच रिपोर्ट ठीक मिली। आसाराम ने इसके अलावा डॉक्टरों से प्रोस्टेट, सांस लेने में दिक्कत व घुटनों में दर्द होने की बात कही। इसके बाद अन्य विशेषज्ञ डॉक्टरों को बुलाया गया।

आसाराम के लिए रात को एमजीएच से ऑन कॉल एमडीएम से कार्डियोलॉजी से डॉ. पंकज व यूरोलॉजी से डॉ. अनुराग यादव को बुलाया गया। रात में कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. संजीव सांघवी, डॉ. रोहित माथुर व डॉ. पवन सारडा से बातचीत के बाद आसाराम को एमडीएम के सीसीयू में भर्ती कराया गया। हालांकि आसाराम की इसीजी रिपोर्ट नेगेटिव थी, लेकिन ब्लड रिपोर्ट व चेस्ट दर्द की शिकायत के कारण एमडीएम अस्पताल के सीसीयू में भर्ती कराया गया। क्योंकि एमजीएच में कार्डियोलॉजी विभाग नहीं है। आसाराम के आने की सूचना के बाद एमडीएम अस्पताल अधीक्षक डॉ. महेन्द्र आसेरी ने भी अस्पताल में व्यवस्थाएं करवाई।

आसाराम ने एमजीएच के सीटी स्कैन कक्ष में खासी देर तक सेंट्रल जेल की पुलिस के साथ गप्पे लगाई। सेंट्रल जेलकर्मियों को नसीहत दी कि वे रामायण-गीता का पाठ पढ़ा करें। इस बीच सेंट्रल जेल सुरक्षाकर्मियों ने आसाराम से कहा कि वे खुद रामायण-गीता का अनुसरण क्यों नहीं करते। आसाराम की बातों पर सेंट्रल जेल सुरक्षाकर्मी भी खूब ठहाके लगाते नजर आए।

आसाराम ने कहा कि वे अच्छा महसूस नहीं कर रहे हैं। एक साथ कई तरह की दिक्कत महसूस हो रही है। इसके बाद रात एक बजे उन्हें एमडीएम अस्पताल शिफ्ट किया गया। वहां कॉर्डियोलॉजी विभाग में उन्हें भर्ती किया गया। सुबह डॉक्टरों ने नए सिरे से जांच करने के फैसला किया। डॉक्टरों का कहना है कि उनकी तबीयत स्थिर है।

आसाराम को जेल से अस्पताल लाने की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में उनके समर्थक महात्मा गांधी अस्पताल पहुंच गए। बड़ी संख्या में तैनात पुलिस ने उन्हें बाहर ही रोक दिया। इसके बावजूद कुछ समर्थक अंदर पहुंच गए। बाद में पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया। सुबह से समर्थक दोबारा अस्पताल पहुंचना शुरू हो गए हैं। अस्पताल के बाहर पुलिस उन्हें रोक रही है।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *