Sharad Purnima : मनोरथों की सिद्धि दात्री पर्व, पूर्णिमा की रात चंद्रमा की किरणों से बरसता है अमृत

Insightonlinenews Team

आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं। इसे ‘रास पूर्णिमा’ भी कहते हैं। धर्मशास्त्रों में उल्लेख मिलता है कि रासोत्सव का यह दिन वास्तव में भगवान श्रीकृष्ण ने जगत की भलाई के लिए निर्धारित किया है क्योंकि इस रात्रि को चंद्रमा की किरणों से सुधा झरती है। कार्तिक का व्रत शरद पूर्णिमा से ही प्रारम्भ होता है। इस रात्रि में भ्रमण और चंद्रकिरणों का शरीर पर पड़ना बहुत ही शुभ माना जाता है। प्रति पूर्णिमा को व्रत करने वाले इस दिन भी चंद्रमा का पूजन करके भोजन करते हैं। इस दिन शिव-पार्वती और कार्तिकेय की भी पूजा की जाती है। यही पूर्णिमा कार्तिक स्नान के साथ, राधा-दामोदर पूजन व्रत धारण करने का भी दिन है।

साल के बारहो पूर्णिमा का अपना महत्व होता है। पर शरद ऋतु में आने वाली पूर्णिमा का काफी महत्व माना गया है।  शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा संपूर्ण, सोलह कलाओं से युक्त होता है। कहा जाता है कि इस दिन चंद्रमा पावन अमृत बरसाता है जिससे धन-धान्य, प्रेम, और अच्छी सेहत सबका वरदान प्राप्त होता है। यह वही दिन है जिस दिन भगवान कृष्ण ने महारास रचाया था। ऐसे में जो कोई भी इंसान इस दिन विधिवत तरीके से पूजा-इत्यादि करता है उसे अच्छे स्वास्थ्य, जीवन में प्यार और धन धान्य की प्राप्ति अवश्य ही होती है।

  • कब है शरद पूर्णिमा ?
  • अक्टूबर 30, 2020 को 17:47: से पूर्णिमा आरम्भ
    अक्टूबर 31, 2020 को 19:31: पर पूर्णिमा समाप्त

शरद पूर्णिमा से जुड़ी मान्यताएं और इस दिन का महत्व

 उत्तर और मध्य भारत में शरद पूर्णिमा की रात में खीर बनाई जाती है और फिर उस खीर को चाँद की रोशनी में रख दिया जाता है। इसके पीछे ऐसी मान्यता है चंद्रमा की किरणें जब खीर में पड़ती हैं तो यह कई गुना गुणकारी और लाभदायक हो जाती है। कई जगहों पर इसे कौमुदी व्रत भी कहते। यह खीर अमृतमयी हो जाता है।
महत्व: इस दिन किया गया उपवास दान का बड़ा महत्व है। इस दिन माताएँ अपनी संतान की मंगल कामना और लंबी उम्र के लिए देवी-देवताओं का पूजन और उपवास करती हैं। इस दिन चंद्रमा पृथ्वी के बेहद करीब आ जाता है। मान्यता है कि शरद पूर्णिमा की रात में चंद्रमा की किरणों अगर इंसान के शरीर पर पड़ें तो यह बहुत ही शुभ माना जाता है।

शरद पूर्णिमा पूजन विधि

शरद पूर्णिमा पर मंदिरों में विशेष सेवा-पूजा का आयोजन किया जाता है।
इस दिन प्रातःकाल उठकर व्रत का संकल्प लें और फिर किसी पवित्र नदी, जलाशय या कुंड में स्नान करें।

 इसके बाद पूजा वाली जगह को साफ़ करें और वहां आराध्य देव की मूर्ति या तस्वीर स्थापित करें,  इसके बाद उन्हें सुंदर वस्त्र, आभूषण इत्यादि पहनाएँ। अब वस्त्र, गंध, अक्षत, पुष्प, धूप, दीप, नैवेद्य, तांबूल, सुपारी और दक्षिणा आदि अर्पित करें और फिर पूजन करें।

रात्रि के समय गाय के दूध से खीर बनाये और फिर इसमें घी और चीनी मिलाकर भोग लगा दें, मध्य रात्रि में इस खीर को चाँद की रोशनी रख दें।
प्रसिद्ध ज्योतिष आचार्य प्रणव मिश्रा ने बताया कि कम से कम 35 मिनेट चंद्र की रोशनी में रहें। खास कर जिनका कर्क राशि या लग्न हो। चंद्रमा नीच का, पापी ग्रहों के साथ या दूषित हो। राहु केतु के साथ चंद्रमा हो तो पूर्णिमा व्रत और चांद का पूजन बहुत जरूरी है। साथ ही उन्होंने बताया कि रात को खीर से भरा बर्तन चांदनी में रखकर दूसरे दिन उसका भोजन करें और सबको प्रसाद के रूप में वितरित करें।

 पूर्णिमा के दिन व्रत करके सत्यनारायण की कथा सुननी चाहिए। कथा कहने से पहले एक लोटे में जल और गिलास में गेहूं, पत्ते के दोने में रोली व चावल रखकर कलश की वंदना करें और दक्षिणा चढ़ाएँ।
  इस दिन भगवान शिव-पार्वती और भगवान कार्तिकेय की भी पूजा होती है।
इस दिन केवल जल और फल ग्रहण करके ही उपवास रखने की कोशिश करें।
अगर उपवास नहीं भी रख सकते हैं तो कोई बात नहीं लेकिन इस दिन सात्विक भोजन ही ग्रहण करने की सलाह दी जाती है।
पूजा पाठ वाले दिन वैसे भी काले रंग के कपड़े नहीं पहनने चाहिए। ऐसे में आप भी इस दिन काले रंग के कपड़ों की जगह अगर चमकदार सफेद रंग के वस्त्र पहनेंगे तो ज्यादा अच्छा होगा।

 स्वास्थ्य का वरदान पाने के लिए क्या करें
 शरद पूर्णिमा का दिन स्वास्थ्य के लिहाज़ से भी काफी महत्वपूर्ण होता है। ऐसे में अपने और अपने घर वालों के स्वास्थ्य को बेहतर करने के लिए आप इस दिन क्या कुछ कर सकते हैं आइये जानते हैं।

रात के समय गाय के दूध की खीर बनाएँ और इसमें घी मिलाएँ।
भगवान कृष्ण की विधिवत पूजा करें और खीर को भगवान को चढ़ाएं।
मध्य रात्रि में जब चंद्रमा पूर्ण रूप से उदित हो जाए तब चंद्र देव की उपासना करें।
इस दिन चंद्रमा के मंत्र “ॐ सोम सोमाय नमः” का जाप करें।
और फिर खीर को चंद्रमा की रोशनी में रख दें।
यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है कि खीर को आप किसी काँच, मिट्टी, या चाँदी के ही बर्तन में रखें।
प्रातः काल उठें और इस खीर को खुद भी खाएं और घर के अन्य सदस्यों को भी खाने को दें।
सूर्योदय के पूर्व खीर का सेवन ज्यादा फलदायी रहता है। ऐसे में सुबह जितने जल्दी उठ कर आप खीर खा लें उतना अच्छा रहेगा।

अगर प्यार में सफलता चाहिए तो इस दिन ज़रूर करें यह उपाय

शाम के समय भगवान राधा-कृष्ण की पूजा करें।
राधा-कृष्ण को एक गुलाब के फूलों की माला अर्पित करें।
मध्य रात्रि को चंद्रमा को अर्घ्य दें। और फिर “ॐ राधावल्लभाय नमः” मंत्र का जाप करते हुए कम से कम तीन माला जपें। श्रीसूक्त, पुरुशुक्त और रुद्रशुक्त का पाठ करें।
मधुराष्टक का भी कम से कम 3 बार पाठ कर सकते हैं। फिर भगवान से अपने मनचाहे प्रेमी को पाने के लिए प्रार्थना करें।
भगवान को चढ़ाई गयी गुलाब की माला को अपने पास सुरक्षित रखें।
धन प्राप्ति के लिए करें यह उपाय
 रात्रि के समय मां लक्ष्मी के समक्ष घी का दीपक जलाएं।
इसके बाद माँ लक्ष्मी को भी गुलाब के फूलों की माला अर्पित करें।

रात्रि के समय मां लक्ष्मी के समक्ष घी का दीपक जलाएं।
इसके बाद माँ लक्ष्मी को भी गुलाब के फूलों की माला अर्पित करें।
माता लक्ष्मी को सफ़ेद रंग अतिप्रिय है, ऐसे में उन्हें सफ़ेद मिठाई और सुगन्धित चीज़ें अर्पित करें।
इसके बाद “ॐ ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद महालक्ष्मये नमः”, इस मंत्र का जाप करते हुए कम से कम ग्यारह माला का जाप करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *