समाजसेवी महिलाओं ने गरीब, बेसहारा रिक्शावाले का किया अंतिम संस्कार

Insightonlinenews Team

फेसबुक एक ऐसा मंच है जहां विभिन्न विचारधारा के लोग अपने-अपने विचारों, कार्यों और विभिन्न प्रकार के मसौदों को लेकर जुड़ते हैं। फेसबुक में पसंद, नापसंद, सामाजिक व्यवस्था और इसी प्रकार के कई बातें लोग पोस्ट करते रहते हैं। विचारवान लोगों को अच्छी पोस्ट से काफी लगाव होता है जो प्रेरणादायक भी होती है।

हाल ही में फेसबुक पर एक मजाक-मस्ती नाम से जाने जाने वाले गु्रप में संजय कुमार कुशवाहा पोस्ट की गई एक पोस्ट को नेहा कटारिया ने अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया, जो मानव मूल्यों का छोटा ही सही लेकिन एक बेहतरीन और ज्वलंत उदाहरण है।

  • प्रस्तुत है समाचार के रूप में इंसानियत का यह बेमिशाल करिश्मा

गाजियाबाद : शांति नगर ढूंढा हेड़ा (विजय नगर गाजियाबाद) में एक बेसहारा रिक्शा चालक रामू अपने परिवार के साथ शांति नगर काॅलोनी में रहता था। जिसका 7 जून की सुबह अपने निवास पर देहांत हो गया और उसके देहांत के उपरांत कोई आस-पड़ोस के लोग न विचलित हुए न उसी सहयता के लिए आगे आये। कुछ समाजसेवकों ने इस गरीब रिक्शा चालक के लिए कई ग्रुपों में मैसेज कर और फोन कर मदद की गुहार की जिसका कहीं से कोई भी सहयोग के लिए सामने नहीं आया।

अंततः आनंद सेवा समिति की अध्यक्ष जिसे उस क्षेत्र की चैधरी बबीता डागर ने फोन द्वारा इस दर्दनाक परिस्थिति की जानकारी दी। और सेवा समिति की अध्यक्ष तथा समाजसेवी ममता सिंह ने महिलाओं के साथ अंतिम संस्कार का बीड़ा बहुत बहादुरी से उठाया और इस पुण्य के काम में अपने-आप को झोंक दिया। आस-पड़ोस का कोई भी पुरुष जब सामने नहीं आया तो इन समाजसेवी महिलाओं ने इस पुण्य कार्य का बीड़ा अपने कंधों पर ले लिया।

अंतिम संस्कार एक लंबी प्रक्रिया है जिसमें लकड़ियां और कई संस्कार से जुड़ी सामग्री इकट्ठी करना इत्यादि और इन सब की व्यवस्था कर ममता सिंह ने अपनी महिला सहेली के साथ मिलकर गरीब रामू रिक्शा वाले को घाट ले गये और उसका अंतिम संस्कार विधि पूर्वक संपन्न किया।
दया से भरे इस महान पुण्य कार्य ने ममता सिंह और चैधरी बबीता डागर ने इंसानियत के नये इतिहास की एक बड़ी छाप समाज में छोड़ी।

वैसे तो पूरे देश में लावारिस लाशों की अंतिम संस्कार के लिए बहुत सी सामाजिक संस्थाएं मुक्ति संस्था इत्यादि के नाम से कार्य कर रही है पर एक बेसहारा गरीब को उसका मानवीय हक पहुंचाना कुछ अलग तरह का उदाहरण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *