St. Anne’s Sisters Update : संत अन्ना धर्मसंघ की माता मेरी बेर्नादेत्त विश्वव्यापी कलीसिया के लिए एक अनुपम उपहार : आर्चबिशप फेलिक्स टोप्पो

Insight Online News

रांची। संत अन्ना धर्मसंघ की पुत्रियों ने शुक्रवार को संत अन्ना धर्मसंघ की संस्थापिका ईश सेविका माता मेरी बेर्नादत्त प्रसाद किस्पोट्टा डीएसए की 60वीं पुण्यतिथि मनायी। इस अवसर पर डॉ कामिल बुल्के पथ स्थित संत मेरीज कैथेड्रल में समारोही मिस्सा अनुष्ठान चढ़ाया गया। इसके मुख्य अनुष्ठाता आर्चडायसिस रांची के आर्चबिशप फेलिक्स टोप्पो एसजे रहे।

अनुष्ठान में बिशप थियोडोर मसकरेन्हस, एसएफएक्स, रांची के पल्ली पुरोहित फादर आनंद डेविड खलखो, बतौर सह अनुष्ठाता उपस्थित रहे और आर्चबिशप का सहयोग किया। ईश सेविका माता मेरी बेर्नादत्त किस्पोट्टा न सिर्फ संत अन्ना की पुत्रियों के धर्मसंघ के लिए बल्कि पूरी स्थानीय कलीसिया एवं विश्वव्यापी कलीसिया के लिए एक अनुपम उपहार है। जिन्होंने येसु के प्रेम में प्रज्ज्वलित होकर चुनौतीपूर्ण कदम उठाया और आजीवन कुंवारी रहकर ईश्वर तथा लोगों की सेवा में अपना जीवन समर्पित किया। आर्चबिशप फेलिक्स टोप्पो ने कहा कि आरम्भ से ही अनेक ख्रीस्तियों ने मसीह का अनुसरण करने के लिए अनेक प्रकार के कष्ट एवं चुनौतियों का सामना किया और अंतत: ईश्वर से बल पाकर वे विजयी हुए।

माता मेरी बेर्नादेत्त प्रसाद किस्पोट्टा का जीवन, कार्य और सेवा भी उसी के उदाहरण की कड़ी है। मौके पर मेरी पुष्पा तिर्की ने कहा कि हम ईश्वर को धन्यवाद दे रहे हैं क्योंकि उन्होंने यहाँ के गरीब एवं उपेक्षितों, विशेषकर, आदिवासी भाई-बहनों के बीच सुसमाचार की घोषणा के लिए मेरी बेनार्देत्त को चुना। माता मेरी बेनार्देत्त ने तीन सहयोगी बहनों माता सेसिलिया, माता बेरोनिका और माता मेरी के साथ इस मुक्तिकारी योजना को आगे बढ़ाया। ईश सेविका माता मेरी बेनार्देत्त की धन्यता की पोस्टूलेटर डॉ. सिस्टर मरियम अनुपा कुजूर डी.एस.ए. ने बतलाया कि 16 जून 2016 को महामहिम कार्डिनल अंजेलो अमातो एस.डी.बी, रोम में परम धर्मपीठीय संत प्रकरण परिषद के अध्यक्ष ने माता मेरी बेनार्देत किस्पोट्टा को निहिल ओबस्तात (कोई बाधा नहीं) प्रदान कर, उन्हें संत घोषणा के रास्ते पर आगे बढ़ाया। तत्पश्चात 7 अगस्त 2016 को राँची के कार्डिनल तेलेस्फोर पी. टोप्पो डी.डी. ने संत मरिया महागिरजाघर में उन्हें ईश सेविका घोषित किया।

इसके पश्चात माता मेरी बेनार्देत की धन्यता की प्रक्रिया को सुचारू रूप से आगे बढ़ाने के लिए स्थानीय कलीसिया के अधिकारियों के मार्गदर्शन में यह प्रक्रिया निरंतर आगे बढ़ रही है। सिस्टर अनुपा कुजूर डीएसए ने बताया कि माता मेरी बेनार्देत्त की धन्यता की प्रक्रिया 24 जुलाई 2015 को शुरू हुई, जब झान (झारखंड एवं अंडमान काथलिक कलीसिया की धर्माध्यक्षीय समिति) ने माता बेनार्देत्त की धन्यता की प्रक्रिया पर पहल करने की सहमति दी। संत अन्न्ना धर्मसंघ छोटानागपुर के महान प्रेरित ईश सेवक फा. कोन्सटन्ट लीवन्स ये.स. के मिशन कार्य से सदैव जुड़ा हुआ है। जो देश-विदेश में अपने कारिज्म और चार प्रेरिताई कार्यों – सुसमाचार प्रसारण, शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा और समाज सेवा के माध्यम से सुसमाचार का प्रचार कर रहा है।

राँची की कलीसिया के साथ-साथ धर्मसंघ के सभी समुदायों में ईश सेविका माता मेरी बेनार्देत्त किस्पोट्टा की 60वीं पुण्यतिथि को प्रेयर तथा पवित्र यूखरिस्त के साथ मनाया गया। रोम समुदाय की धर्मबहनों ने येसु ख्रीस्त के अति मूल्यवान रक्त पल्ली के विश्वासियों के साथ मिलकर ईश सेविका माता मेरी बेनार्देत्त की पुण्यतिथि के अवसर पर ईश्वर को धन्यवाद दिया। समुदाय की सुपीरियर सिस्टर अल्मा फ्रिडा खलखो ने पवित्र मिस्सा के उपरांत मुख्य अनुष्ठाता फादर मार्को एवं उपस्थित सभी विश्वासियों के प्रति आभार व्यक्त किया। साथ ही माता बेनार्देत्त के जीवन से प्रेरित होकर येसु के प्रेम में एक बने रहने का आह्वान किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *