Sustainable Development Goals : सतत विकास लक्ष्यों को पाने में केरल आगे बिहार पीछे

Insight Online News

नई दिल्ली, 03 जून : नीति आयोग ने गुरुवार को सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) से जुड़ी रैंकिंग जारी की है, जिसमें केरल वर्ष 2020-21 के इंडेक्स में शीर्ष स्थान पर रहा है। वहीं बिहार इस इंडेक्स में सबसे निचले पायदान पर है।

देश के समग्र एसडीजी स्कोर में छह अंकों का सुधार हुआ है। 2019 में 60 से बढ़कर अब 2020-21 में यह 66 पहुंचा है। यह साफ पानी व स्वच्छता के साथ सस्ती व स्वच्छ उर्जा की दिशा में देशभर में हुई अनुरकरणीय प्रयासों का नतीजा है। इन दोनों लक्ष्यों में भारत का समग्र स्कोर क्रमशः 83 और 92 है।

नीति आयोग की पहल के तहत जारी होने वाला यह इंडेक्स बताता है कि राज्य समाजिक, आर्थिक और पर्यावरण की दृष्टि से तय होने वाले लक्ष्यों की प्राप्ति की दिशा में कितनी तेजी से काम कर रहे हैं। इस इंडेक्स में केरल 75 अंकों के साथ शीर्ष पर है। दूसरे स्थान पर हिमाचल प्रदेश और तमिलनाडु हैं, जिनका स्कोर 74 रहा है। इसके बाद आंध्र प्रदेश, गोवा, कर्नाटक व उत्तराखंड 72 अंकों के साथ शीर्ष तीसरे पायदन पर हैं। 71 अंकों के साथ सिक्कम चौथे और 70 अंकों के साथ महाराष्ट्र पांचवें स्थान पर है।

निचले पायदन पर रहने वाले राज्यों का क्रम है- बिहार, झारखंड, असम, अरुणाचल, मेघालय, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और चंडीगढ़, नागालैंड और ओडिशा। इनसे अंक 52 से 61 के बीच हैं। सुधार के मामले में मिजोरम, हरियाणा और उत्तराखंड 2020-21 में क्रमशः 12, 10 और 8 अंकों के साथ शीर्ष है।

नीति आयोग के इंडेक्स के तीसरे संस्करण को आज उपाध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार ने लॉन्च किया। उन्होंने कहा, “एसडीजी इंडिया इंडेक्स और डैशबोर्ड के माध्यम से एसडीजी की निगरानी के हमारे प्रयास पर दुनिया भर में व्यापक रूप से गौर किया और सराहा जा रहा है। एसडीजी पर एक समग्र सूचकांक की गणना करके हमारे राज्यों और केन्द्र- शासित प्रदेशों को वर्गीकृत करने का यह एक दुर्लभ डेटा-संचालित पहल है। हमें विश्वास है कि यह प्रेरणा और अनुकरण का विषय बना रहेगा और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निगरानी के प्रयासों को आगे बढ़ाने में मदद करेगा।”

एसडीजी इंडिया इंडेक्स प्रत्येक राज्य और केन्द्र – शासित प्रदेश के लिए 16 सतत विकास लक्ष्यों पर स्कोर की गणना करता है। कुल मिलाकर राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश के स्कोर 16 एसडीजी पर उनके प्रदर्शन के आधार पर समग्र प्रदर्शन को मापने के लिए गणना किये गये लक्ष्य-वार स्कोर में से निकाले जाते हैं। यह स्कोर 0-100 के बीच होते हैं, और अगर कोई राज्य व केन्द्र- शासित प्रदेश 100 का स्कोर प्राप्त करता है, तो यह इस तथ्य को दर्शाता है कि उस राज्य व केन्द्र – शासित प्रदेश ने 2030 के लक्ष्य हासिल कर लिए हैं।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES