श्रीमद भगवद गीता के अनुसार, आत्मा का अनुभव होने तक जो दशा रहती है, वह स्थितप्रज्ञ दशा कहलाती है!

स्थित प्रज्ञ भक्त सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने कृपा की और हमें ज्ञान की नजर बख्श कर भक्ति का

Read more