Telangana CM Chandrashekhar Rao : तेलंगाना में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई कटौती नहीं : मुख्यमंत्री

हैदराबाद । संविधान ने यह सुनिश्चित करने के लिए सरकारों पर जिम्मेदारी दे रखी है कि अनाज की कोई कमी न हो। वर्तमान में केंद्र सरकार अपनी जिम्मेदारी की उपेक्षा कर रही है। यह बात तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने अनाज खरीद के मामले में केंद्र सरकार के नित नए निर्णयों को लेकर कही। वहीं पेट्रोल-डीजल के मूल्यों को लेकर केंद्र के फैसलों को जनता को गुमराह करने वाला बताया। उन्होंने कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों पर अतिरिक्त कर केंद्र ने लगाया है तो उसे दाम में कटौती भी उसी का जिम्मा है। राज्य सरकार किसी भी प्रकार की कटौती नहीं करेगी।

चंद्रशेखर राव ने केंद्र सरकार की नीतियों की आलोचना करते हुए कहा कि केंद्र अनाज खरीद के मामले में हर दिन नई बात कर रहा है। राज्यों के पास विदेशों में अनाज निर्यात करने की शक्ति नहीं है, बावजूद इसके आये दिन नहीं नीतियों को लाद कर राज्य की सरकारों को कमजोर करने का काम किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने केंद्रीय कृषि मंत्रालय पर दोहरा मापदंड अपनाने का भी आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि एक ओर केंद्र पंजाब को शत-प्रतिशत धान खरीदने का आश्वासन देती है और दूसरी ओर तेलंगाना की धान खरीदी से पीछे हट रही है।

रविवार शाम प्रगति भवन में आयोजित पत्रकारवार्ता को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने अनाज खरीद, फसल की खेती और पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में घटोतरी को लेकर केंद्र की आलोचना की। उन्होंने कहा कि वे स्वयं धान खरीदी के मामले में नई दिल्ली में धरना पर बैठेंगे और उनके विधायक भी उनके साथ रहेंगे। हुजूरबाद में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति की हार के बाद यह उनका पहला पत्रकार सम्मेलन रहा।

मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने कहा कि उनकी सरकार राज्य के गठन के बाद लगातार लक्ष्य के साथ ग्रामीण अर्थव्यवस्था को निर्णायक तरीके से सहारा देने का फैसला किया। इस दिशा में राज्य सरकार ने कड़े कदम उठाए हैं। उस प्रक्रिया में सिंचाई के लिए कई परियोजना को बढ़ाया के लिए मिशन काकतीय के हिस्से के रूप में तालाबों का विकास किया।

सीएम ने आगे कहा कि इतना ही नहीं हमने गुणवत्तापूर्ण बिजली की आपूर्ति की। उसके बाद उन्होंने रायतुबंधु योजना के तहत प्रति एकड़ 10,000 रुपये किसान को दिए गए। 1,400 करोड़ रुपये की लागत से वे किसान बीमा योजना के जरिए हम किसानों का प्रीमियम भी भर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें बीज भी नहीं मिल सके। इसके लिए केंद्र से लड़ाई लड़नी पड़ी और मिलावटी बीज बेचने वालों के खिलाफ पीडी एक्ट लाया। वर्तमान में राज्य में उर्वरक की कमी के बिना कृषि का काफी सुधार हुआ, जिससे उत्कृष्ट कृषि उत्पादन हुआ।

वहीं, पेट्रोल-डीजल के मूल्य में कटौती के मुद्दे पर केंद्र को निशाने पर लेते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार जानबूझकर जनता को गुमराह कर रही है। उन्होंने ऐलान किया कि वे केंद्र सरकार के खिलाफ पेट्रोल और डीजल के दाम पर आंदोलन करेंगे।साथ ही उन्होंने कहा कि उनके शासन काल में ने तो एक पैसा मूल्य डीजल-पेट्रोल का बढ़ाया गया है और न ही अब वो एक रुपया दाम कम करेंगे। केंद्र सरकार को ही सेस को वापस लेना होगा।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *