HindiJharkhand NewsNewsPolitics

एक समान अवकाश तालिका में व्याप्त त्रुटियों का जल्द हो सुधार : अमीन अहमद

राज्य के उर्दू विद्यालयों के साथ हो रहे अन्याय अब बर्दाश्त नहीं : उर्दू शिक्षक संघ

होली, दिवाली, दुर्गापूजा सहित ईद, बकरीद, सरहुल, क्रिसमस के छुट्टियों में बरती जाय समानता

राँची, 12 जून 2024 : झारखंड राज्य उर्दू शिक्षक संघ के द्वारा राज्य के सभी कोटि के विद्यालयों के लिए जारी एक समान अवकाश तालिका में अब तक व्याप्त त्रुटियों में सुधार हेतु जे० सी० ई० आर० टी० निदेशक एवं प्रशासी पदाधिकारी झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद को संघ के द्वारा मांग पत्र सौंपा गया।
प्रशासी पदाधिकारी श्री जयंत कुमार मिश्रा से झारखंड राज्य उर्दू शिक्षक संघ के केंद्रीय महासचिव अमीन अहमद के नेतृत्व में मिलकर राज्य द्वारा जारी एक समान अवकाश तालिका में अब तक व्याप्त त्रुटियों पर विस्तार पूर्वक त्रुटियों की जानकारी दी गई। प्रशासी पदाधिकारी श्री मिश्रा ने सभी बिंदुओं पर गौर करते हुए कहा कि इसपर उचित एवं आवश्यक सुधार हेतु आज ही संचिका तैयार कर आगे बढ़ा दी जायेगी। उन्होंने संघ को आश्वस्त करते हुए कहा कि संघ के मांग पर समुचित निर्णय जल्द ले लिया जायेगा ताकि कुल देय छुट्टियों की संख्या सभी कोटि के विद्यालयों के लिए एक समान हो।
संघ के केंद्रीय महासचिव अमीन अहमद ने कहा कि राज्य के सभी कोटि के विद्यालयों में सभी धर्मावलंबियों के छात्र-छात्राएं पठन पाठन करते हैं, इसलिए सभी धर्मावलंबियों के त्योहारों की छुट्टी निर्धारण में समानता बरती जानी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि एक समान अवकाश तालिका में होली, छठ एवं दुर्गापूजा में क्रमश: दो, दो तथा तीन दिनों की छुट्टियां दी गई हैं। जबकि अन्य धर्मावलंबियों के महत्वपूर्ण त्योहारों जैसे ईद, बकरीद, मुहर्रम, क्रिसमस एवं सरहुल में मात्र एक-एक दिन की ही छुट्टी दी गई है। उक्त संदर्भ में संघ द्वारा पूर्व में ही विभाग का ध्यान आकृष्ट कराया गया था, जिस पर अब तक कोई निर्णय नहीं लिया गया, जो अत्यंत खेदजनक है।
एक समान अवकाश तालिका में पुनर्विचार करते हुए सुधार हेतु निम्न मांगो को प्रमुखता से रखी गई है।
एक समान अवकाश तालिका में 01 मार्च 2024 से 31 दिसंबर 2024 तक कुल सात अवकाश शुक्रवार को पड़ने वाले के दिनों में एक (1) अंकित किया गया है यथा 08 मार्च – महाशिवरात्रि, 29 मार्च – गुड फ्राईडे, 09 अगस्त – विश्व आदिवासी दिवस, 11 अक्टुबर – दुर्गा पूजा, 08 नवंबर – छट, 15 नवंबर – गुरु नानक जयंती तथा 27 दिसंबर – शीतकालीन अवकाश में कुल मिलाकर सात शुक्रवार की छुट्टियां हैं। इस तरह से एक समान अवकाश तालिका में कुल सात शुक्रवार के अवकाश की गणना कर ली गई है। जबकि उर्दू विद्यालयों में शुक्रवार को साप्ताहिक अवकाश होता है। राज्य द्वारा जारी सभी कोटि के विद्यालयों को कुल पचपन (55) दिनों का अवकाश दिया गया है। इस तरह उर्दू विद्यालयों में कुल पचपन (55) दिनों के छुट्टियों में सात छुट्टियां कम होकर मात्र अड़तालिस (48) दिनों के छुट्टियां ही मिल रही हैं, जिसका सामंजन करना उर्दू विद्यालयों के लिए आवश्यक है।
राज्य के विभिन्न जिलों में भिन्न भिन्न भौगोलिक दृष्टिकोण के मद्देनजर माह जनवरी एवं दिसंबर में दिये गए शीतकालीन अवकाश को समाप्त करते हुए अन्य महत्वपूर्ण त्योहारों के लिए सामंजित करना राज्य के शैक्षणिक हित में बेहतर होगा। जिसके लिए राज्य के प्रारंभिक विद्यालयों में पूर्व के जिला स्तर पर अवकाश का निर्धारण किया जाना ही एक मात्र बेहतर विकल्प होगा।
राज्य के उर्दू विद्यालयों के कुल सात छुट्टियों का सामंजन बकरीद में दिये गये 17 जून 2024 के अवकाश के अतिरिक्त तीन दिनो, मुहर्रम को दिये गये 17 जुलाई 2024 के अवकाश के अतिरिक्त दो दिनों एवं ईद मिलाद-उन-नबी के 16 सितंबर अवकाश के अतिरिक्त एक दिन के अवकाश का सामंजन किया जाय, ताकि उर्दू विद्यालयों के लिए भी जे० सी० ई० आर० टी० द्वारा जारी एक समान अवकाश तालिका में दिये गए कुल पचपन (55) दिनों के अवकाश के बराबर हो जाय।
प्रतिनिधिमंडल में महासचिव अमीन अहमद सहित मो० फखरुद्दीन, मक़सूद जफर हादी, शहज़ाद अनवर, सरवर आलम आदि मुख्य रूप से शामिल रहे।
ज्ञापन की प्रति संलग्न है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *