UP News Update : कोविड-19 : जिलों में शासनादेश का उल्लंघन होने पर डीएम-सीएमओ पर होगी कार्यवाही : मुख्यमंत्री

लखनऊ, 27 अप्रैल । उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को सभी जिलाधिकारियों को अपने-अपने जनपद में सेक्टर प्रणाली लागू करने तथा क्षेत्रवार सेक्टर मजिस्ट्रेट नियुक्त करने को निर्देशित किया है।कहाकि किसी जिले में शासनादेशों का उल्लंघन होने पर संबंधित जिलाधिकारी और सीएमओ की जवाबदेही तय करें। इस पर मुख्यमंत्री कार्यालय और मुख्य सचिव कार्यालय सतत नजर बनाए रखे।

मुख्यमंत्री ने कोविड-19 प्रबंधन के लिए गठित टीम-11 से कहा कि यह सुनिश्चित करें कि हर जरूरतमंद मरीज को बेड मिले। जिसे ऑक्सीजन, वेंटिलेटर या दवाओं की जरूरत हो, उसे तत्काल मुहैया कराया जाय। बेड आवंटन और डिस्चार्ज पॉलिसी को प्रभावी ढंग से लागू करें। बताया कि प्रदेश में विगत 24 घंटों में 32,993 नए केस मिले हैं, जबकि इसी अवधि में 30,398 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए हैं।

कहाकि प्रदेश में ऑक्सिजन की आपूर्ति हर दिन बेहतर होती जा रही है। टैंकरों की संख्या बढ़ी है। इसी कार्य में 64 टैंकर लगाये गए हैं। इसके अलावा, 20 टैंकर विभिन्न जिलों में सीधे अस्पतालों को आपूर्ति कर रहे हैं। भारत सरकार से भी आठ नए टैंकर मिल रहे हैं। इसके अलावा जमशेदपुर से ऑक्सीजन की आपूर्ति कराई जा रही है। सभी ऑक्सीजन टैंकर जीपीएस से लैस रहें। उनकी लाइव मॉनिटरिंग की जाए। ऑक्सीजन ऑडिट का काम तेजी से किया जाए।

बताया कि प्रदेश के विभिन्न चिकित्सा संस्थानों में 32 ऑक्सीजन प्लांट पहले से स्थापित हैं। अब 39 और अस्पतालों में ऑक्सिजन प्लांट लगाने के लिए ऑर्डर प्लेस कर दिए गए हैं। पीएम केयर्स अंतर्गत भारत सरकार द्वारा स्थापित कराए जाने वाले ऑक्सीजन प्लांट के सम्बंध में प्रस्ताव आज भेजे जा रहे हैं।

कहा कि लगातार प्रयासों से अब लखनऊ, कानपुर, बरेली, वाराणसी, गोरखपुर परिक्षेत्रों में ऑक्सीजन के मांग-आपूर्ति और वितरण की स्थिति में संतुलन है। इसे और बेहतर किया जाए। आगरा, मथुरा और अलीगढ़ क्षेत्रों में प्रभावी इंतजाम किए जाने की जरूरत है। इस दिशा में तत्काल कार्यवाही कराई जाए।

मुख्यमंत्री ने बताया कि प्रदेश में ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना के लिए निजी क्षेत्र की ओर से 54 प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। अधिकारियों से कहा कि इन प्रस्तावों का परीक्षण कर इन्हें सभी जरूरी सहयोग प्रदान करें। व्यापक जनहित में निजी क्षेत्र का यह प्रस्ताव स्वागतयोग्य है।

कहा कि सभी जिलों में दो-दो सीएचसी को कोविड मरीजों के सेवार्थ डेडिकेटेड किया जाए। स्वास्थ्य विभाग के अस्पतालों में पिछले सप्ताह में जनपदवार 200-200 बेड बढ़ाए गए हैं। इससे करीब 15 हजार बेड बढ़े हैं। कोविड हॉस्पिटल के रूप में नए निजी अस्पतालों को भी जोड़ा जाए।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *