World Hindi Day : विश्व की चौथी सबसे ज्यादा बोले जाने वाली भाषा है हिंदी

नई दिल्ली : मंदारिन, स्पैनिश, इंग्लिश के बाद विश्व की चौथी सबसे ज्यादा बोले जाने वाली भाषा हिंदी है। यही नहीं हिंदी बोली 13 देशों में बोली जाती है। विश्व हिन्दी दिवस के माध्यम से हिंदी को पूरी दुनिया में प्रचारित किया जाता रहा है। प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन 10 जनवरी 1975 को नागपुर में आयोजित हुआ था तब से ही इस दिन को विश्व हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य विश्व में हिन्दी को अन्तरराष्ट्रीय भाषा के रूप में पेश करना है। आइए जानते हैं हिंदी से जुड़े सात रोचक तथ्य के बारे में

42 करोड़ लोग पूरी दुनिया में बोलते हिंदी भाषा

13 देशों में बोली जाती हिन्दी भाषा दुनियाभर में

कैसे हुआ नामकरण

हिंदी का नाम फारसी शब्द ‘हिंद से लिया गया है, जिसका अर्थ है सिंधु नदी की भूमि। फारसी बोलने वाले तुर्क जिन्होंने गंगा के मैदान और पंजाब पर आक्रमण किया, 11वीं शताब्दी की शुरुआत में सिंधु नदी के किनारे बोली जाने वाली भाषा को ‘हिंदी नाम दिया था। हिंदी भाषा भारत की आधिकारिक भाषा है और संयुक्त अरब अमीरात में एक मान्यता प्राप्त अल्पसंख्यक भाषा है।

यूरोपीय भाषा से बेहतर

हिंदी रोपीय भाषाओं की तरह ही बाएं से दाएं लिखी जाती है। हालांकि, यूरोपीय भाषाओं की तुलना में हिंदी पढ़ना बहुत आसान है क्योंकि शब्द ठीक वैसे ही लिखे जाते हैं जैसे उनका उच्चारण किया जाता है। हिन्दी में ‘द’ या ‘ए’ लेख नहीं हैं। वाक्य संरचना अंग्रेजी से अलग है क्योंकि क्रिया वाक्य के अंत तक जाती है। सभी संज्ञाओं में लिंग होता है, या तो स्त्रीलिंग या पुल्लिंग, क्रिया और विशेषण उनके लिंग के अनुसार बदलते हैं।

इन देशों में बोली जाती है हिंदी

भारत, नेपाल, अमेरिका, मॉरिसस, त्रिनिनाद, न्यूजीलैंड, यूगांडा, सिंगापुर, फिजी, दक्षिण अफ्रीका, सूरीनाम ,यूनाइटेड किंगडम, जर्मनी

हिंदी का दबदबा

  • हिंदी दुनिया के 30 से अधिक देशों में पढ़ी-पढ़ाई जाती है
  • लगभग 100 विश्वविद्यालयों में हिंदी के लिए अध्यापन केंद्र खुले हुए हैं
  • अमेरिका में लगभग 150 से ज्यादा शैक्षणिक संस्थानों में हिंदी पढ़ाई जाती है

भारत में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा

हिंदी – 52.83 करोड़ लोग

बंगाली – 9.72 करोड़ लोग

मराठी – 8.30 करोड़ लोग

तेलुगु – 8.11 करोड़ लोग

तमिल – 6.90 करोड़ लोग

गुजराती – 5.54 करोड़ लोग

उर्दू – 5.07 करोड़ लोग

कन्नड़ – 4.37 करोड़ लोग

ओड़िया – 3.75 करोड़ लोग

मलयालम – 3.48 करोड़ लोग

-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *