Yaas Cyclone Update: विकराल हुआ यास चक्रवात, झारखंड की राजधानी रांची में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश

Insight Online News

रांची । यास तूफान विकराल हो गया है। सुबह से भारी बारिश और तेज हवाओं ने जनजीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया है। लोग चक्रवात के डर से घरों में दुबके हैं। राज्य में आए यास चक्रवात की गंभीरता को देखते हुए राज्य के स्वास्थ्य एवं आपदा प्रबंधन मंत्री बन्ना गुप्ता ने सर्वाधिक संभावित प्रभावित छह जिलों के उपायुक्तों को आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किया है। इन छह जिलों में पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम, सरायकेला, रांची, खूंटी व बोकारो शामिल हैं।

मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा है कि यास चक्रवात के फलस्वरूप विद्युत आपूर्ति बाधित होने की आशंका है। ऐसी स्थिति में अस्पतालों में विद्युत आपूर्ति की वैकल्पिक व्यवस्था सुनिश्चित करें, विद्युत विभाग विद्युत आपूर्ति बाधित होने की स्थिति में आपूर्ति ससमय बहाल करने की कार्रवाई करे, क्योंकि विद्युत आपूर्ति बाधित होने से पेयजलापूर्ति बाधित होने की संभावना है। इसे ससमय बहाल किया जाना भी आवश्यक है। वहीं रांची में चक्रवात यास के प्रभाव से नेपाल हाउस परिसर में बिशप वेस्टकॉट स्कूल के पास एक उखड़ गया पेड़ गिर गया।

नेपाल हाउस परिसर में बिशप वेस्टकॉट स्कूल के पास गिरा पेड़

झारखंड में अब तक इससे ज्यादा भीषण चक्रवात नहीं आया है। मौसम विज्ञानी बताते हैं कि अब बंगाल की खाड़ी में बनने वाला कोई चक्रवात इस रूट से देश में दाखिल नहीं हुआ है। यास सबसे असाधारण और अपूर्व मार्ग से झारखंड में प्रवेश कर रहा है। ये रूट बंगाल की खाड़ी से झारखंड तक पहुंचने का सबसे छोटा रूट है। ऐसे में समुद्र से दूरी कम होने के कारण चक्रवात की तीव्रता सबसे ज्यादा रहेगी। इससे पहले समुद्र से दूरी ज्यादा होने के कारण झारखंड में पहुंचते-पहुंचते चक्रवात की गति कम हो जाती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES