योगी ने किया 199 आंगनबाड़ी केंद्रों का शिलान्यास व 501 केंद्रों का लोकार्पण

लखनऊ, 16 सितंबर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को बच्चों का बचपन पोषणयुक्त बनाने के उद्देश्य से राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत राज्य में 199 आंगनबाड़ी केन्द्रों का शिलान्यास और 501 केन्द्रों का लोकार्पण किया।

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए योगी ने कहा कि बच्चे देश का वर्तमान होने के नाते देश का भविष्य होते हैं। जब देश का वर्तमान सुरक्षित होता है, तभी देश का भविष्य भी सुरक्षित हो सकता है। उन्होंने देश के वर्तमान और भविष्य को सुरक्षित बनाने में आंगनबाड़ी केन्द्रों की सशक्त भूमिका को समय की मांग बताया।

योगी ने धात्री महिलाओं, किशोरी कन्याओं व बच्चों को जोड़कर भारत के भविष्य को स्वस्थ व सक्षम बनाने में सभी पक्षकारों से सक्रिय योगदान करने का आह्वान किया। योगी ने कहा कि मां स्वस्थ होगी तो देश का वर्तमान स्वत: स्वस्थ रहेगा। बच्चे सुपोषित होंगे तो समाज व राष्ट्र सशक्त होगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा व स्वास्थ्य समाज की बुनियादी आवश्यकताएं हैं और देश की मजबूत आधारशिला माताओं बच्चों के पोषण एवं शिक्षा के बलबूते ही खड़ी हो सकती है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि अच्छी एवं उत्तम शिक्षा, बच्चे के सुनहरे भविष्य के साथ समाज व राष्ट्र की नींव को मजबूत करने का आधार बनता है। यह काम आंगनबाड़ी की संस्था के सहारे ही किया जा सकता है। योगी ने कहा कि राज्य में 5 वर्ष से पोषण माह को मिशन मोड पर लेकर आगे बढ़ाया गया है। तकनीक से जुड़कर अधिक से अधिक लोगों तक शासन की इन योजनाओं का लाभ पहुंचाया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 60 हजार से अधिक महिला स्वयंसेवी समूहों को जोड़ा गया है। पहले तक शराब बेचने वाले लाेग अब ईमानदारी से पोषाहार बेच रहे हैं। हर जनपद में नए प्लांट लग रहे हैं। पोषाहार व फूड को समुचित तरीके से पहुंचाया जा रहा है। सबसे बड़ी आबादी का राज्य चुनौतियों के बावजूद सफलता की कहानी कह रहा है। योगी ने कहा कि 1.70 करोड़ बच्चे आंगनबाड़ी केंद्रों से अपना भविष्य सुरक्षित करते हैं। सक्षम बचपन से सक्षम जवानी आए, देश को प्रतिभावान नौजवान मिलें तो उसकी नींव मजबूत करने की जिम्मेदारी आंगनबाड़ी की है। आंगनबाड़ी बहनें, बच्चों को रोचक तरीके से अक्षर व शब्द ज्ञान कराती हैं। बच्चों को उद्धरण के माध्यम से रोचक जानकारी देती हैं, इससे बच्चों की नींव मजबूत होती है।

उन्होंने आंगनबाड़ी कर्मियों की हौसला अफजाई करते हुए कहा कि कोविड के दौरान आंगनबाड़ी बहनों के प्रयासों की सभी ने सराहना की। मुख्यमंत्री ने विभाग की पुस्तिका हर आंगनबाड़ी केंद्रों में पहुंचाने को कहा। इस अवसर पर उन्होंने वर्चुअल माध्यम से 501 आंगनबाड़ी केंद्रों का लोकार्पण एवं 199 केन्द्रों का शिलान्यास किया। इसके अलावा पोषण मैन्युअल ‘सक्षम’ तथा विभाग की 5 वर्षों की उपलब्धियों की पुस्तिका ‘सशक्त आंगनबाड़ी’ का विमोचन भी किया। योगी ने इस अवसर पर मोबाइल एप ‘सहयोग’ व ‘बाल पिटारा’ को लांच कर ‘दुलार’ कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

मुख्यमंत्री योगी ने आंगनबाड़ी केंद्रों का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने पर संतोष प्रकट करते हुए बच्चों का अन्नप्राशन व गर्भवती महिलाओं की गोदभराई भी की। सीएम ने कहा कि 2017 में प्रदेश में 1.89 लाख आंगनबाड़ी केंद्रों में से कई के पास खुद का भवन नहीं था। उन सभी को चिह्नित कर 21,700 केंद्रों के पक्के भवन बनाए गए। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में इस काम की गति थोड़ी बाधित जरूर हुई अन्यथा सभी केंद्रों को प्री-प्राइमरी के रूप में आगे बढ़ा लिया गया होता।

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *