झारखंड विधानसभा मानसून सत्र : सदन के मुख्य द्वार पर विपक्ष का प्रदर्शन, शिक्षा का इस्लामीकरण बंद करो के लगे नारे

रांची, 3 अगस्त । झारखंड विधानसभा के मानसून सत्र के चौथे दिन बुधवार को भी विपक्षी विधायकों ने सदन के मुख्य द्वार पर प्रदर्शन किया। भाजपा विधायकों ने शिक्षा का इस्लामीकरण बंद करो और बोल बम के नारे भी लगाए।

भाजपा विधायक अनंत ओझा ने कहा कि जब से राज्य में हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में सरकार बनी है शिक्षा का इस्लामीकरण किया जा रहा है। स्कूलों में रविवार की जगह शुक्रवार को छुट्टी दी जा रही है। सरकार तुष्टिकरण की राजनीति कर रही है। एक धर्म विशेष के लोगों को खुश करने के लिए ऐसा काम किया जा रहा है।

मंगलवार को स्पीकर ने भाजपा के चार विधायकों भानु प्रताप साही, रणधीर प्रसाद, ढुल्लू महतो और जयप्रकाश भाई पटेल को चार अगस्त तक के लिए निलंबित कर दिया था। भाजपा विधायक इसका भी विरोध कर रहे थे। विधायक अमर कुमार बावरी ने कहा कि सरकार के इशारे पर स्पीकर ने यह कार्रवाई की है। जेपी पटेल सदन में नहीं थे उन्हें भी निलंबित किया गया, यह गलत है। उन्होंने कहा कि सरकार को यह भय था कि मनी बिल पर सदन में सरकार कहीं गिर ना जाए। इसलिए चार विधायकों को निलंबित किया गया।

आजसू के विधायक लंबोदर महतो महतो ने सदन के बाहर 1932 के खतियान के आधार पर स्थानीय नीति लागू करने की मांग को लेकर धरना दिया। लंबोदर महतो ने कहा कि पिछले बजट सत्र में ही सरकार ने आश्वासन दिया था कि त्रिस्तरीय समिति का गठन करके स्थानीय नीति पर फैसला लिया जाएगा लेकिन चार महीने बाद भी इस पर कोई पहल नहीं हुई है। इस सरकार की कथनी और करनी में अंतर है।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.