Jharkhand : बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत लाभुकों को मिलेगा वृक्षों का पट्टा : मुख्यमंत्री

-मुख्यमंत्री हजारीबाग में मेगा किसान क्रेडिट कार्ड वितरण शिविर में शामिल हुए

-42,816 किसान क्रेडिट कार्ड धारकों के बीच 191 करोड़ केसीसी लोन वितरित

-मुख्यमंत्री ने 75 योजनाओं का उद्घाटन और 77 योजनाओं की रखी आधारशिला

रांची, 28 जुलाई । मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि सरकार के बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत हर ग्रामीण को फलदार वृक्ष लगाने के लिए प्रोत्साहित करने का काम किया जा रहा है। इस तरह जंगल का पट्टा, जमीन का पट्टा आवंटित किया जाता था, उसी प्रकार अब वृक्षों का भी पट्टा लोगों को उपलब्ध कराया जाएगा। अब सरकारी जमीन पर भी ग्रामीण किसान फल का पेड़ लगा सकेंगे और इस फल के पेड़ का मालिकाना हक भी उनके पास ही रहेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा राज्य कि लगभग 70 प्रतिशत आबादी ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है। ऐसे में किसानों और मजदूरों की आमदनी बढ़ाने एवं उनके समृद्धि और खुशहाली के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। क्योंकि, जब हमारे ग्रामीणों की सामर्थ्य क्षमता बढ़ेगी तो राज्य भी सशक्त बनेगा। मुख्यमंत्री गुरुवार को हजारीबाग में आयोजित प्रमंडल स्तरीय मेगा किसान क्रेडिट कार्ड वितरण शिविर-सह-जागरूकता एवं विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास एवं उद्घाटन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे ।

उन्होंने कहा कि किसान एवं मजदूरों के हित में और उन्हें सहयोग करने के लिए सरकार कार्य योजनाओं को बनाकर उसे धरातल पर उतारने का काम कर रही है। केसीसी लोन में बैंकर्स को निर्देशित किया गया है कि वह किसानों को हर संभव सहायता करें । जब सब कदम बढ़ा कर आगे आएंगे तो हम प्रगति की ओर अग्रसर हो सकेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान, मजदूर भाइयों को सरकार के योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं, उसके लिए जमीनी स्तर पर जाकर निरीक्षण करने का काम कर रही है। आज के जैसे कार्यक्रमों का आयोजन कर मैं खुद आपके बीच आकर आपको योजनाओं से आच्छादित करने का काम कर रहा हूं।

कम बारिश से सुखाड़ की आशंका, हालात से निपटने की हो रही तैयारी

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में अब तक सामान्य से कम बारिश हुई है। ऐसे में सुखाड़ की आशंका बढ़ती जा रही है । यह हम सभी के लिए चिंता की बात है लेकिन इससे निपटने के लिए भी सरकार तैयार है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सब ने साथ मिलकर ढ़ाई साल में कई समस्याओं को समाधान करने काम किया है। इस समस्या के निदान के लिए हम सब साथ मिलकर योजनाबद्ध तरीके से काम कर रहे हैं। किसानों को खेती के लिए सही सलाह मिल सके, इसलिए कृषि पदाधिकारी की नियुक्ति की गई है। इस सुखाड़ जैसी परिस्थितियों में किसान क्या करें क्या नहीं उसके लिए किसान इन पदाधिकारियों की सलाह पर खेती कर सकते है। उन्होंने कहा कि हम आदिवासी मूल निवासी के मदद से राज्य के उत्थान के लिए हर संभव कार्य कर रहे हैं।

इन योजनाओं का हुआ उद्घाटन- शिलान्यास

मुख्यमंत्री द्वारा इस कार्यक्रम में उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल के 42,893 किसान क्रेडिट कार्ड धारकों के बीच लगभग 19081.74 लाख रुपये केसीसी लोन के रूप में वितरित किया गया। साथ ही कुल 58,97,01,161 रुपये राशि के कुल 75 योजनाओं का उद्घाटन एवं 1,46,74,74,444 रुपये राशि के कुल 77 योजनाओं का शिलान्यास किया।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published.