महंगाई के खिलाफ कांग्रेस फिर पांच अगस्त को सड़क पर उतरकर जताएगी विरोध

जयपुर, 2 अगस्त । सेना भर्ती में अग्निपथ योजना और केंद्रीय जांच एजेंसियों के दुरुपयोग के विरोध में जून-जुलाई माह में बड़े आंदोलन कर चुकी गहलोत सरकार अब महंगाई के खिलाफ एक बार फिर सड़कों पर उतरने की तैयारी में है। महंगाई के खिलाफ प्रदेश कांग्रेस पांच अगस्त को राजधानी जयपुर सहित सभी जिलों में विरोध प्रदर्शन करेगी। राजधानी जयपुर में महंगाई के खिलाफ धरने प्रदर्शन के बाद राजभवन का सांकेतिक घेराव भी किया जाएगा।

देशभर में बढ़ती महंगाई के विरोध में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की ओर से सभी राज्यों को महंगाई के खिलाफ पांच अगस्त को धरने-प्रदर्शन और राजभवन घेराव करने का सर्कुलर जारी किया गया है। इसके बाद प्रदेश कांग्रेस महंगाई के खिलाफ होने वाले विरोध प्रदर्शनों की तैयारियों में जुट गई है। बताया जा रहा है कि पांच अगस्त को सुबह 10 बजे से सिविल लाइंस फाटक पर प्रदेश कांग्रेस की ओर से धरना दिया जाएगा, जिसमें प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य, जयपुर शहर से आने वाले मंत्री और विधायक, पार्टी कार्यकर्ता और अग्रिम संगठनों के कार्यकर्ता शामिल होंगे।

इसके साथ ही जिलों में होने वाले प्रदर्शनों में विधायक और स्थानीय संगठन के लोग शामिल होंगे। महंगाई के खिलाफ होने वाले धरना प्रदर्शन में प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा सहित कई अन्य नेताओं की मौजूदगी रहेगी। महंगाई के खिलाफ होने वाले धरने प्रदर्शनों में ज्यादा से ज्यादा भीड़ जुटाने के लिए प्रदेश कांग्रेस की ओर से मंत्रियों, विधायकों को अलग-अलग टास्क दिया गए हैं। जिलों में होने वाले प्रदर्शनों में भीड़ जुटाने का जिम्मा विधायकों को दिया गया है।

इससे पहले 25 जुलाई को प्रदेश कांग्रेस की ओर से प्रवर्तन निदेशालय के खिलाफ एक ही दिन में दो बार विरोध प्रदर्शन किया गए थे। सुबह 10 से लेकर दोपहर 2 बजे तक जहां ईडी के विरोध में शहीद स्मारक पर सत्याग्रह आंदोलन किया गया था तो वहीं शाम 6 बजे कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को हिरासत में लेने के विरोध में प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय से शहीद स्मारक तक पैदल मार्च निकाला गया था, जिसमें प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा सहित सरकार के मंत्री, विधायक भी शामिल हुए थे।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.