National : महंगाई को काबू में रखा गया है, इसे और नीचे लाया जाएगा: सीतारमण

नयी दिल्ली, 01 अगस्त : वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने महंगाई और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को लेकर सरकार पर विपक्ष के हमले का सोमवार को करारा जवाब देते हुए कहा कि देश के बाहर और भीतर गंभीर चुनौतियों के बावजूद भारत में महंगाई दर को सात प्रतिशत के इर्द-गिर्द और काबू में रखा गया है तथा इसे और कम करने के उपाय किए गए हैं।
वित्त मंत्री ने पैकेज्ड और ब्रांडेड दूध, दही, चावल आदि खाने-पीने की चीजों पर जीएसटी के निर्णय के लिए केंद्र सरकार को घेरने की कोशिश करने वाले विपक्ष को आइना दिखाते हुए कहा,” जीएसटी के बारे में जो भी निर्णय होता है, वह जीएसटी परिसर करती है जो इस मामले अधिकार प्राप्त संवैधानिक निकाय है। जीएसटी का फैसला कोई प्रधानमंत्री मोदी का फैसला नहीं होता।”
श्रीमती सीतारमण ने कहा कि हाल में दूध, दही, पनीर और अन्य ब्रांडेड चीजों पर जीएसटी लगाने का फैसला जीएसटी परिषद में सर्वसम्मत से लिया गया था। इन चीजों की खुली बिक्री पर कोई कर नहीं है और पैकेज्ड चीज पर भी 25 किलोग्राम से ऊपर की पैंकिंग को जीएसटी के दायरे में नहीं रखा गया है।
वित्त मंत्री महंगाई के मुद्दे पर लोकसभा में नियम 193 के तहत चर्चा का जवाब दे रही थीं। चर्चा में 30 से अधिक सदस्यों ने भाग लिया। वित्त मंत्री के जवाब के दौरान पहले कांग्रेस के सदस्य और फिर द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (द्रमुक) के सदस्यों ने बहिर्गमन किया।
श्रीमती सीतारमण ने कहा, “भारत कोविड-19 जैसी अभूतपूर्व महामारी और यूरोप में युद्ध से उत्पन्न परिस्थितियों के बावजूद भारत इस समय दुनिया के सबसे तेजी से वृद्धि कर रही अर्थव्यवस्था बना हुआ है और भारत में मुद्रास्फीति अमेरिका और यूरोप जैसे देशों की तुलना में नियंत्रण में है। ”
उन्होंने विपक्ष की टोका-टाकी के बीच कहा कि महंगाई पर इस बहस को राजनीतिक रंग दिया गया है। यह आंकड़ों पर आधारित बहस नहीं थी, इसलिए विपक्ष को मेरा राजनैतिक जवाब भी सुनने को तैयार रहना चाहिए। वित्त मंत्री ने कहा,”राजनीतिक भाषण देते हैं तो राजनैतिक भाषण सुनना भी पड़ेगा। मैं आपको इसमें व्यवधान की अनुमति देती हूं।”
वित्त मंत्री की इस बात पर अध्यक्ष श्री ओम बिरला ने उन्हें टोकते हुए कहा कि सदन व्यवस्था के हिसाब से ही चलता है।
वित्त मंत्री ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था की तुलनात्मक स्थिति अच्छी हैख् देश अभूतपूर्व संकट से खड़ा हुआ है। इसमें जनता का योगदान है। विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष दो-तीन साल से विश्व की सबसे तेजी से बढ़ रही अर्थव्यवस्था बताते आ रहे हैं। आज वे अगर यदि विश्व अर्थव्यवस्था की समीक्षा करते हुए उसमें गिरावट का अनुमान लगाते समय भारत की संभावित वृद्धि दर को 8.2 प्रतिशत से घटाकर 7.4 प्रतिशत करते हैं तब भी भारत की वृद्धि दर अन्य देशों के ऊपर है।
श्रीमती सीतारमण ने कहा,” देश के सामने समस्या जरूर है। हम उससे निपट रहे हैं।” उन्होंने भारत में मुद्रास्फीति जनित मंदी के खतरे के बारे में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी द्वारा पूछे गए स्पष्टिकरण का जवाब देते हुए साफ-साफ कहा,”भारत में मंदी या स्टैगफ्लेशन का सवाल ही नहीं उठता।”
उन्होंने कहा कि विश्व की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका में इस वर्ष पहली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 0.9 प्रतिशत और दूसरी तिमाही में 1.6 प्रतिशत का संकुचन हुआ। इसे वे तकनीकी मंदी बता रहे हैं लेकिन भारत के मंदी में पड़ने का कोई ड़र नहीं है।
वित्त मंत्री ने देश की वृहद आर्थिक स्थिति को मजबूत बताते हुए कहा कि भारत में अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों के अवरुद्ध ऋण कम हुआ है और वित्त वर्ष 2021-22 में केंद्र सरकार पर कर्ज जीडीपी के तुलना में घटकर 56.29 प्रतिशत पर आ गया। जबकि अमेरिका और कई अन्य देशों में यह अनुपात 100 प्रतिशत से ऊपर है।
उन्होंने जीएसटी संग्रह और विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियों में सुधार के ताजा आंकड़ों का उल्लेख करते हुए कहा कि जुलाई में जीएसटी संग्रह 1.49 लाख करोड़ रुपये के साथ अब तक का दूसरा सबसे बड़ा मासिक संग्रह है और पांच महीने से लगाता 1.4 लाख करोड़ रुपये से ऊपर चल रहा है। इसी तरह विनिर्माण क्षेत्र का परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) जुलाई 2022 में 56.4 प्रतिशत रहा। जून में आठ प्रमुख उद्योगों की वार्षिक वृद्धि दर 12.7 प्रतिशत रही।
श्रीमती सीतारमण ने कहा,”भारतीय अर्थव्यवस्था बहुत उत्साहजनक संकेत दे रही है।”
उन्होंने कहा,”मुद्रास्फीति है इसे मैं स्वीकार करती हूं पर इसका स्तर क्या है।”
वित्त मंत्री ने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के दौरान 2008-13 तक भारतीय अर्थव्यवस्था पांच जर्जर अर्थव्यवस्थाओं में गिनी जाने लगी थी। उन्होंने कहा, “ संप्रग के समय लगातार 28 महीनों में 22 महीने मुद्रास्फीति नौ प्रतिशत से अधिक थी। संप्रग के समय नौ बार मुद्रास्फीति 10 प्रतिशत से भी ऊपर चली गयी थी। ”
वित्त मंत्री ने कहा, “ इस समय अब भी जबकि वैश्विक व्यापार में स्थिरता नहीं आयी है। भारत में मुद्रास्फीति सात प्रतिशत के आस-पास सीमित है। इसे और भी नीचे लाने का प्रयास चल रहा है। ”
मनोहर.अभिषेक
जारी वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published.